01-Jun-2018 05:03

आप सक्षम हैं तो हमारे क्षेत्र में रहें : सुनील कुमार (थानाध्यक्ष)

लंबी लंबी पहुँच के बूते हाजीपुर सदर थाना प्रभारी से लेकर नगर थाना प्रभारी के रूप में लगभग 4 साल से ऊपर का सफर करने वाले इंस्पेक्टर सुनील कुमार अब DSP बनने की तैयारी में हैं। गुनाहों के मसीहा बन चुके हैं सुनील कुमार और इनके कार्यों की समीक्षा करने की ताकत

अगर सक्षम है तो ही हाजीपुर के नगर क्षेत्र में निवास करें। अन्यथा आपके साथ होने वाली किसी भी घटना के लिए थाना प्रभारी एवं पुलिस प्रशासन जिम्मेवार नहीं। यही मानना है वर्तमान थानाध्यक्ष सुनील कुमार का, जो चाहते हैं कि आप अपने बलबूते पर ही हाजीपुर क्षेत्र में रहें। जिससे थाना पर अतिरिक्त बोझ ना पड़े और वह अपने थाना क्षेत्रों में शराब, बालू, जुआ के अड्डे, देहव्यापार को संरक्षित कर चला सके। शहर के अंंदर सुनील कुमार के नेतृत्व में पुलिस की गरिमा धुमिल हुई हैं।

सर्व विदित हो चुका है कि हाजीपुर शहर में रहना अपनी मौत को बुलाने के बराबर है। हाजीपुर की जनता अब अपने आप को पुलिस के भरोसे नहीं छोड़ सकती। निष्क्रिय पुलिस की व्यवस्था और आम आदमी को झूठे मुकदमे में फंसाना, सही जांच ना करना, यही है हाजीपुर नगर क्षेत्र के थाना, आदर्श नगर थाना की पहचान। हाजीपुर शहर पिछले कुछ सालों में कितना असुरक्षित हो चुका है जिसका प्रमाण किसी को देने की जरूरत नहीं है। प्रत्यक्ष एवं स्पष्ट रुप से हाजीपुर शहर पूर्णरूपेण और भी असुरक्षित है। लेकिन बिहार सरकार व भारत सरकार द्वारा निर्मित पुलिस व्यवस्था जिसे यह जिम्मेदारी दे दी गई कि वह अपने क्षेत्र में लोगों को शांति एवं सुख के साथ रहने का मौका उपलब्ध कराएं। अपने क्षेत्र में उन सभी असामाजिक तत्वों से मुक्त रखें, ताकि समाज एक बेहतर परिवेश जन्म दे सके। लेकिन हाजीपुर नगर क्षेत्र में स्थापित आदर्श नगर थाना हाजीपुर अपने कर्तव्य को लेकर बेहद ही असंवैधानिक हो चुका है।

ज्ञात हो कि पिछले कुछ महीनों में हाजीपुर शहर में हत्याकांड चरम पर हैं। अनेकों घटनाएँ हो चुकी हैं और आज तक पुलिस निर्दोषों को परेशान करने में ही लगी हैं। मानवीय मूल्यों को ताक पर रख चुकी वैशाली पुलिस अपनी संवेदना को भी भूल चुकी हैं। खास कर वैशाली जिला प्रशासन के पुलिस विभाग का सबसे महत्वपूर्ण थाना क्षेत्र नजर रहा हैं। इसे आदर्श नगर थाना बनाया गया है, वैसे ही जैसे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आदर्श ग्राम पंचायत बनाने का लक्ष्य लिया। जनता के पैसे का भरपूर दुरप्रयोग करने के लिए और जनता के मेहनत की कमाई को चुसने का अड्डा बन चुकी हैं आदर्श नगर, हाजीपुर।

पूर्व के पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने थानाध्यक्षों का मनोबल इतना बढ़ा दिया कि वे सबके साथ अमानवीय व्यवहार करने में परहेज कभी नहीं किया। कितनी बड़ी घटनाएं क्यों ना हो, हाजीपुर नगर थानाध्यक्ष को कुछ नहीं होता हैं। पुलिस अधीक्षक के कहने के बावजूद भी इनके कानों पर जू तक नहीं रेंगता हैं। विशेष सूत्रों ने बताया कि सुनील कुमार की पहुँच बहुत बड़े स्तरों पर हैं। सुनील कुमार ने 24 अप्रैल 2018 को एक महिला के साथ बतमीजी के मामले में मदद की जगह पर कहाँ कि आपलोग खुद सझम हैं। पुलिस अधीक्षक से शिकायत के बाद भी आज 9वें दिन तक प्राथमिकी दर्ज नहीं किया गया। अब आप लगातार पढ़ते रहें कि सुनील कुमार ने हाजीपुर नगर में अपराध के जगह अपराधी बनाने की फैक्ट्री कैसे शुरू किया। अगले समाचार में पढ़े केस दर केस उनकी जुवानी जो एक आम आदमी से गुनेहगार बनने को विवश सुनील कुमार द्वारा किया जा रहा है।

01-Jun-2018 05:03

कानून मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology