08-Oct-2019 12:00

पुलिस मुक्त बिहार : 1 : हथियार कहां से आ रहा वैशाली में, हत्या के लिए जिम्मेवार कौन ?

आगे आपको क्या करना है, वाकई बिहार में पुलिस की आवश्यकता है क्या ?

अब मैं आप सभी से इसी विषय पर बात करना चाह रहा हूं कि आखिर हथियारों का सप्लाई कौन करा रहा है। जिससे दिन दहाड़े दिन प्रतिदिन हत्या पर, हत्या हो रही है। लोगों को दिनदहाड़े गोली मारी जा रही है और इसके लिए बिहार सरकार के पुलिस विभाग के पास कोई भी समाधान नजर नहीं आती। दावे तो ऐसे से किए जा रहे हैं, जैसे उनके घर की खेती है और वह जब चाहे बंद कर दे। तब यह स्पष्ट हो जाता है कि हत्याओं के पीछे क्या बिहार पुलिस की ही भूमिका हैं ? जिम्मेदारियों की बात की जाए तो क्या बिहार पुलिस किस उद्देश्य से काम कर रही है ? क्या बिहार पुलिस हमारी सुरक्षा के लिए उपयुक्त संसाधन है ? हमें नहीं लगता है ? क्योंकि बिहार पुलिस के रहते हुए, अवैध हथियारों का बड़े स्तर पर तस्करी होता है ? और उसी तस्करी के तहत यह रोज-रोज हत्या होती है क्यों ? और कोई भी पुलिस अधीक्षक इस बात की जिम्मेवारी लेने के लिए तैयार नहीं है कि वह अपने क्षेत्र में इस तरह की की घटनाओं को नहीं होने देगी।

अब इस बात को समझने का प्रयास करिए की हत्या तो हो रही है। तो जब हत्या हो रही है और उन हत्याओं में प्रयोग की जाने वाली हथियार अवैध कहे जाते हैं। तो इन अवैध हथियारों के लिए कोई तो माध्यम बिहार सरकार ने बनाया होगा। जिसके माध्यम से इसकी सप्लाई वैसे लोगों तक आसानी से पहुंच जाती है, जो किसी की हत्या करना चाहते हैं और क्या बिहार सरकार इस प्रक्रिया को इतना मजबूत कर चुकी है कि उसे मजबूत हिस्से का क्रियान्वयन करने वाली संस्था बिहार पुलिस है। बिहार पुलिस की जो भूमिका नजर आती है ? वह इस में नजर आ रही है कि वह कैसे आम आदमी को परेशान कर सके। आम आदमी को कैसे लूट सके ? आम आदमी को किन-किन हथकंडो के तहत अपराधी बना सके ? बहुत सारे समाज में मामले हैं जिस पर आप प्रकाश डालेंगे, तो आपके सामने जो निकल कर आयेगा, वह यही आएगा कि पुलिस द्वारा हमें फंसा कर अपराधी बनाने का प्रयास किया गया ? और जिसके लिए दिन-रात एक आम आदमी संघर्ष करता है ?

अब रही बात हथियार की उपलब्धता के साथ-साथ हत्या में प्रयोग होने की। जिसके बाद भी उन हत्याओं के कई वीडियो फुटेज तक उपलब्धता को बिहार पूरा, भारत देखा है। लेकिन बिहार पुलिस आज तक किसी भी बड़ी घटनाओं में या कहे की हत्या जैसे अपराध की घटनाओं में कामयाबी नहीं पाई। खानापूर्ति के लिए वह किसी न किसी प्रकार से ऐसे अपराधियों को उन हत्याओं में डाल देते हैं, जिनका उस फुटेज के साथ या उससे कुछ संबंध ना हो। क्योंकि आम आदमी का राजनैतिक रूप से मुंह बंद हो सके, इसके लिए पुलिस षडयंत्र कर रही है। अवैध हथियार इतने बड़े स्तर पर बिहार के अंदर सप्लाई हो रहे हैं। जिसकी पकड़ शायद बिहार पुलिस के औकात से भी बाहर हो गई। वहीं बिहार पुलिस दिन-रात अवैध वसूली में लगकर पूरे आमजन समाज को तबाह एवं परेशान करने का मुहिम चलाती रहती हैं। आप सभी ध्यान ही होगा कि जब पूरा बिहार डूब रहा था तभी बिहार पुलिस अवैध वसूली का काल दुकान खोल कर बैठे हुए थे।

हम कुछ उदाहरण लेते हैं जैसे लगातार वैशाली बिहार का प्रमुख जिला है। और जो कि राजधानी से सटा हुआ। शहर के रूप में हाजीपुर प्रमुख स्थान रखती है। अगर आप देखेंगे तो पिछले 6 वर्षों में मैं खुद महसूस कर रहा हूं की बहुत ही आसानी से यहां हत्या भी होती है। लूट भी होती है, जिंदा जला दिया भी जाता है। अपराधियों पर शंका होने के बावजूद अपराधी को नहीं पकड़ा जाता है। इन 6 वर्षों में हमने किसी कि इसका समाधान करते हुए वैशाली पुलिस को नहीं देंखा। वही इसी सप्ताह में महनार में हुई एक गोलीबारी के संबंध में जब महनार के थाना प्रभारी से हमने बात की, तो उन्होंने अवैध हथियारों के संबंध में कहा की अवैध हथियारों का हमारे क्षेत्र में आना हमारी सहमति या असहमति का मायने नहीं रखती है। स्थान रखती है किस अवैध हथियार के हमारे क्षेत्र में आना, हमारी नाकामयाबी है। हम इसके लिए जिम्मेवार हैं कि हम अपने क्षेत्र में अवैध हथियार का प्रयोग करने या कराने दे रहे हैं। महनार थाना प्रभारी अभिव्यक्ति से अस्पष्ट होता है, कि बिहार पुलिस को यह पता है कि अवैध हथियार कहां से आ रहे हैं और कैसे आ रहे हैं और किसके लिए आ रहे हैं ? बहुत आसानी से ऐसी घटनाओं को अंजाम दिलाने में पुलिस की भूमिका प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष महत्वपूर्ण होती है। आगे आपको क्या करना है, वाकई बिहार में पुलिस की आवश्यकता है क्या ? इस बात को आप सभी समझते हैं और पुलिस के अपराध नीति का आप लगभग सभी लोग शिकार हैं ? इस पर हम आगे चर्चा करें ?

08-Oct-2019 12:00

कानून मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology