20-Sep-2018 10:17

राजनैतिक साजिश का शिकार हुए राजीव ब्रह्मर्षि

बड़े-बड़े घटनाओं पर वैशाली जिला प्रशासन चुप्पी साधे रहती है और आज एक वीडियो को लेकर हंगामा करते हुए हिंदुत्व के लिए कार्य करने वाले हिंदू पुत्र संगठन के संरक्षण राजीव ब्रह्मर्षि की गिरफ्तारी की गई :- आर्यन सिंह

ज्ञात हो, कि बुधवार की सुबह वैशाली जिले के सदर थाना व नगर थाना द्वारा वार्ता करने के नाम पर राजीव ब्रह्मर्षि को घर पर अनुमंडल पदाधिकारी के नाम से संदेश लेकर पहुंची। जिसके बाद राजनैतिक साजिश के तहत पुलिस द्वारा राजीव ब्रह्मर्षि को गिरफ्तार कर लिया गया। पूरे दिन राजीव ब्रह्मर्षि को सदर थाना हाजीपुर में बैठा कर रखा गया। जिले के सभी थानों से लेकर पुलिस अधीक्षक एक राजीव ब्रह्मर्षि को गिरफ्तारी में अपनी पूरी ताकत लगा रहे थे। वहां पर खड़े कार्यकर्ताओं ने बताया कि राजीव ब्रह्मर्षि को इस तरीके से गिरफ्तार की गई थी कि, जैसे राजीव ब्रह्मर्षि कोई अपराधी है और उसे जेल भेजना अति महत्वपूर्ण था। वहीं बजरंग दल के जिला सह संयोजक आर्यन सिंह ने कहा कि भले ही राजीव भाई हिंदू पुत्र संगठन के संयोजक थे। लेकिन वह हिंदू है और हिंदू हित में जो उन्होंने काम किया है, उस की मैं सराहना करता हूं। और इसी कारण से राजीव ब्रह्मर्षि के गिरफ्तारी को लेकर हम लोगों ने विरोध किया। प्रशासन ने उन्हें जिस तरीके से अपराधी के रूप में प्रकट करने की कोशिश की यह निंदनीय है। वैशाली पुलिस ना तो अपराध को कम कर पाती है और ना किसी और मामले में चुप्पी अपनी तोड़ती है। लेकिन मुस्लिम समाज के लिए एक हिंदू वीर हिंदू कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। यह घोर विरोधी कार्य वैशाली पुलिस के लिए बहुत ही निंदनीय है। वैशाली पुलिस की कार्यशैली इतनी गिर चुकी है कि वह हिंदुस्तान में मुसलमानों के लिए काम करने में विश्वास रखती है। वह किसी भी प्रकार से हिंदू की रक्षा के लिए कोई काम नहीं करते। विशेष बता दे यह कोई साधारण रणनीति नहीं रही है। यह एक बहुत बड़ी राजनीतिक षड्यंत्र है, जिसके तहत राजीव ब्रह्मर्षि को गिरफ्तार किया गया। राजीव ब्रह्मर्षि के साथ होने वाले किसी भी अत्याचार के खिलाफ हमारी पूरी टीम एवं पूरी हिंदू संगठन खड़ा रहेगी। साथ ही सभी चरणों में विरोध व्यक्त करती रहेगी। यह बहुत दुर्भाग्य का पल रहा है जब हमें हिंदू कार्यकर्ता को पुलिस द्वारा संयंत्र कर गिरफ्तार करने का कारनामा सामने आया।हिंदुओं पर आधारित हम संपूर्ण हिंदू समाज की ओर से विरोध प्रकट करते हैं और हर वक्त राजीव ब्रह्मर्षि के रिहाई के लिए प्रयास करेंगे। साथ ही किसी भी प्रकार से उनकी क्षति के लिए सिर्फ और सिर्फ प्रशासन जिम्मेदार होगी।

वहीं कुछ कार्यकर्ताओं ने बताया कि पूरे दिन राजीव ब्रह्मर्षि को विभिन्न प्रकार के किस केस में फंसाने की तैयारी हो रही थी। वहां पुलिस पदाधिकारियों द्वारा एवं वरीय पुलिस पदाधिकारियों द्वारा बहुत सारे बातों में राजीव ब्रह्मर्षि को फंसाने की राजनीतिक षड्यंत्र का खुलासा कर रहे थे। या कहें कि आपस में जो बातचीत चल रही थी, उनकी उससे यही प्रतीत होता है कि राजीव ब्रह्मर्षि को बड़ी राजनीतिक गिरोह द्वारा फंसाने की तैयारी चल रही थी। जिसमें मुसलमानों के आने वाले पर्व को लेकर उठाये गये यह कदम इसी के बहाने राजीव ब्रह्मर्षि को फंसा कर जेल भेज दिया गया। यह बहुत दुर्भाग्य की बात है कि जिस पुलिस के कंधों पर जिला के सुरक्षा व्यवस्था की नींव रखी है। वही पुलिस षड्यंत्र करती है और राजनीतिक दबाव में एक आम आदमी को अपराधी बनाने के तरफ अपना कदम बढ़ाती है। यहां की पुलिस व्यवस्था शायद अंग्रेजों के समय के पुलिस व्यवस्था से भी बदतर हैं। आज आम जीवन पुलिस वालों के अत्याचार की वजह से गुलामी की तरह जीती है। वैशाली पुलिस लगातार वर्षों में अपने निष्क्रिय नेतृत्व के कारण बहुत ही विकट स्थिति जिला के अंदर पैदा कर रखी है। किसी भी तरीके से आम आदमी के लिए यह शुभ संकेत नहीं है।

वही इस संबंध में सदर थाना हाजीपुर द्वारा बात करने का प्रयास किया गया, तो हाजीपुर सदर थाना के थानाध्यक्ष का सरकारी नंबर पूरे दिन बंद रहा। यह दुर्भाग्य है कि सरकारी नंबर थानाध्यक्षों को जिम्मेदारियों को निभाने के लिए दिया जाता है, लेकिन पूरे दिन सदर थाना प्रभारी अपने फोन नंबर को बंद रखें। यह एक निंदनीय विषय है । जिस संबंध में वैशाली जिला के ए एस पी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमारी बातें हो रही हैं यह बहुत अजीब लगा कि जो नंबर लगातार सुबह से बंद है उस सरकारी नंबर पर ए एस पी की बात हो रही है। यानी पुलिस की मिलीभगत के कारण इस तरीके के सभी संयंत्रों को अंजाम दिया जा रहा है। जिसमें वरिष्ठ पुलिस पदाधिकारी पूर्ण रूप में सम्मिलित है। वहीं थाना प्रभारी नगर से बात करने के लिए ए एस पी ने बताया, जिसमें नगर थाना प्रभारी ने बताया कि मुझे पुरी जानकारी नहीं है। नगर थाना में ही दर्ज एक मामले में ही गिरफ्तारी हुई हैं, आप थाना में मुंशी से बातें कर जानकारी लें। जिस संबंध में मुंशी ने बताया कि 486/18 जो केस दर्ज 15 जुलाई 2018 को हुआ था। उसी के संबंध में गिरफ्तारी हुई है। जिस की जानकारी नगर थाना प्रभारी के पास नहीं थी। उन्होंने अपने मुंशी अमित कुमार के माध्यम से यह जानकारी उपलब्ध करवाएं। वही मुंशी ने शशी चंद्र गुप्ता जो इस केस के आई ओ का नंबर दिया। आई ओ से बात होने पर उन्होंने बताया कि राजीव ब्रह्मर्षि ढाई महीना पहले प्राथमिकी हुई थी। जिसमें संप्रदायिक हिंसा भड़काने का वीडियो जारी किया था। जब हमने पूछा कि कौन सी बात के लिए संप्रदायिक हिंसा भड़काने वाली बातें कही गई थी। तो इस बारें में अलग अलग बातें करने लगे। आई ओ को इस संबंध में कोई खास जानकारी नहीं लगी, या जानबूझकर लीपापोती कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं गस्ती में हूं और रात के 10:00 बजे के बाद हमसे बात करें। तो मैं देख कर बताऊँगा। वैशाली पुलिस कैसे-कैसे पुलिस पदाधिकारियों को किसी केस का अनुसंधान कर्ता बनाती है जिन्हें यह ज्ञात नहीं है कि पूरे दिन की घटना का कारण क्या था। उन्हें घटना एवं कारणों की कोई भी जानकारी नहीं दी। वही वैशाली पुलिस के किसी भी पदाधिकारी द्वारा स्पष्ट नहीं किया जा रहा था या उन्हें यह जानकारी नहीं थी। वह बताना नहीं चाहते थे, यह दुर्भाग्य का विषय है।

वैशाली पुलिस अपने कंधों पर किसी भी प्रकार की जिम्मेवारी लेने में सक्षम नहीं है। वैशाली पुलिस आज राजनीति दलों से गाइड होकर ही काम करते हैं। आम आदमी की सुरक्षा व्यवस्था से कोई मतलब नहीं होता है। कानून का डंडा उन्हें अपने एवं राजनेताओं के लिए ही प्रयोग के समय याद आता है। जबकि आम आदमी की एक प्राथमिकी दर्ज करने से लेकर उसके अनुसंधान तक के लिए मोटे मोटे पैसे मांगे जाते हैं। इसमें किसी भी प्रकार से वरीय पुलिस पदाधिकारियों का कोई भी कमांड नहीं होता है। वह स्वतंत्र रूप से थानों में दलाली का अखाड़ा बनाकर रखे हुए हैं। यही है वैशाली पुलिस की नियति और अपराधियों पर शिकंजा कसने की जगह पर आम आदमी एवं किसी वैसे संगठन राष्ट्र हित समाज हित में काम करता है। उससे वह अपना डंडा चलाते हैं और यह दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए बजरंग दल के नीसू सिंह ने कहा कि हम सभी लोग इन सभी घटनाओं पर नजर रखे हैं। दारू, बालू और अपराधियों के संरक्षक के रूप में ही वैशाली पुलिस श्रेष्ठ है।

20-Sep-2018 10:17

कानून मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology