21-Nov-2019 07:06

खिलाड़ियों को खेल भावना से ओत प्रोत होकर ही खेलना चाहिए l

खेलकूद प्रतियोगिता में राजनीतिक घुसपैठ नहीं होना चाहिए l

अगर खेल के प्रति खिलाड़ी की निष्ठा रहेगी तो वह मेडल जीतने का काम करेगा अन्यथा टीम में बने रहने के लिए तिकड़मबाजी के चक्कर में न ही ठीक से खेल पायेगा और न ही मैडल लायेगा l जो खिलाड़ी अपने खेल कैरियर में अच्छा प्रदर्शन कर सकने में अक्षम है उसे खेल को छोड़ देना चाहिए l खेल को व्यापार समझने वाले लोगों को खेल से अलग कर देना चाहिए l खेल खेलने की निर्धारित उम्र सीमा पार करने वाले खिलाड़ियों को खिलाड़ी से अविलंब हटा देना चाहिए l

खेल में बने रहने के लिए खेल बदलते रहने वाले कदापि खिलाड़ी नहीं हो सकते हैं बल्कि उन्हें कामचोर ही समझना चाहिए l स्वेछा से खेल में आने वाले और ट्रायल के जरिये टीम में आने वाले खिलाड़ियों के लिए मानक मानदंड का पालन कड़ाई से होना चाहिए l पलंग तोड़ने के लिए और ऐश आराम के लिए खिलाड़ी को खेल में चयन नहीं किया जाता बल्कि प्रतिभा निखारने के लिए और मैडल लाने के लिए l अगर कोई खिलाड़ी पाँच साल तक अच्छा प्रदर्शन करने में विफल हो तो उसे खेल ही नहीं बल्कि खेल ग्राउंड से गेट आऊट कर देना चाहिए l जो खिलाड़ी खेल में अच्छा प्रदर्शन करने के बजाय अपने शरीर का चर्बी बढ़ाते हैं और स्नो पाउडर ब्लीचिंग मसाज में ज्यादा समय देते हैं उनको खेलकूद में बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है l

जो खिलाड़ी अगर कोई मैडल लाया तो ज्यादा से ज्यादा अन्य उपलब्धि हासिल करने के लिए उसे दो से तीन साल का ही समय देना चाहिए क्योंकि यदि ऐसे लोगों को टीम में जगह दिया जाता है तो उससे खेल को नुकसान होगा l ट्रैक शूट लेने के लिए डिप्टेशन मनी लेने के लिए सैर सपाटे के लिए ड्यूटी से दूर रहकर आराम फरमाने के लिए जो खेल में रह रहे हैं उनको चिन्हित कर उनको सुदूरवर्ती इलाकों में ड्यूटी पर लगाना चाहिए l मुझे न तो किसी से राग द्वेष अनुराग नहीं है बल्कि मुझे अपने राज्य देश खेल और जनता के पैसे का अपव्यय नहीं हो उसको देखना है और सबसे बड़ी बात कि खेल किस तरह से डेवलप करे उसपर कार्य करने के लिए संबंधित अधिकारियों को जागृत करना है l खिलाड़ियों के चेहरे पर आलस्य का भाव बिल्कुल बर्दाश्त नहीं होना चाहिए क्योंकि आलस्य के कारण ही खेलकूद में घुन लग गया है l

मेरी बात जिन लोगों को बुरी लगती है या तो खेल में अच्छा प्रदर्शन कर अपने आप को साबित करें या फिर खेल और खेल के मैदान से पीठ दिखाकर भाग जाय l सब पर नजर सबपर असर पड़ना चाहिए ताकि कोई भी भटके नहीं और विकृति का शिकार नहीं बने अन्यथा आप धिक्कार के पात्र हैं और ऐसे लोगों को खेल से अलग रखने के लिए हमारा प्रयास जारी रहेगा l खेलकूद के उत्कर्ष को जो खिलाड़ी या फिर जो कोंच पलीता लगा रहे हैं उनको तत्काल चिन्हित कर बाहर का रास्ता दिखाते हुए खेलकूद से कोसों दूर कर देना चाहिए l राज्यहित और विभागीय प्रतिष्ठा के समर्पण और समन्वय के साथ जो नहीं खेल रहे हैं उन्हें गेट आऊट किया जाय l

21-Nov-2019 07:06

खेल मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology