23-Oct-2019 03:02

सरकार की नाकामियों के खिलाफ आंदोलित हुए पटना विश्वविद्यालय के छात्र, आक्रोश मार्च कर विरोध जताया

पटना विश्वविद्यालय के छात्रों ने बिहार सरकार के नाकामियों के विरोध में पटना कॉलेज गेट से कारगिल चौक तक चेतवानी मार्च निकाला।

बिहार सरकार जो कि एनडीए के नेतृत्व में संचालित हो रही है, लगातार अपनी विफलताओं की कहानी लिख रही है। नीतीश कुमार के नेतृत्व में संचालित बिहार सरकार आज विफलताओं की इतनी लंबी फैरियत खड़ी कर रखी है। जिसके ऊपर अब एक राजनीतिक संकट मंडरा रहा है। बिहार की आम जनता लगातार संकटों से जूझ रही है, लेकिन सरकार की उदासीनता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आम आदमी ना तो सरकार की योजनाओं का लाभ उठा पा रही और ना ही सरकार योजना का लाभ जनता तक पहुंचा पा रही है। नई सड़कों का निर्माण नहीं कर पा रही है और ना ही पुराने सड़कों को ही यथास्थिति में रखने की स्थिति में खुद नजर आती है। वही लगातार बाढ़ के कारण पूरा उत्तर दिखाएं परेशान रहा है। वही पटना की स्थिति ने सरकार की सारे कार्यकलापों की कलई खोल कर रख दी।

बिहार सरकार की नाकामियों के कारण आज बिहार में शिक्षा व्यवस्था, चिकित्सा व्यवस्था पूर्णरूपेण ध्वस्त है। वही शिक्षा के स्तर पर किसी भी प्रकार की सुबह की संभावना नजर नहीं आती। जबकि रोज-रोज शिक्षा विभाग द्वारा नए-नए हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। लेकिन शिक्षा में सीधे रूप से सुधार की संभावनाएं नजर नहीं आती। वहीं चिकित्सा की स्थिति बहुत ही दयनीय है। जहां दिन प्रतिदिन हत्याएं पूरे बिहार में तांडव मचा रहे हैं। वहीं किसी भी जिले में गोली लगे लोगों के इलाज की कोई व्यवस्था नहीं है। सबको पटना पहुंच पाना या पहुंचा पाना, बहुत मुश्किल होती है। जिसके कारण प्रतिदिन दर्जनों लोगों की मौत हो जाती है। वही सामान्य चिकित्सा के लिए भी आज भी लोग पटना पर ही आश्रित है। अगर जो सुरक्षित पहुंच गए तो पहुंच गए नहीं, तो बीच रास्ते से ही लौट जाना पड़ता है।

इसी दुर्दशा को देखते हुए पटना विश्वविद्यालय के छात्रों ने एक आंदोलनात्मक स्वरूप बनाया। मंगलवार को दिनांक 22 अक्टूबर को पटना यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों द्वारा बिहार सरकार के विफलताओं के ख़िलाफ़ शांतिपूर्ण "चेतावनी मार्च" निकाला गया। ज्ञात हो की कुछ दिन पहले ही पटना जलजमाव से प्रभावित था। उससे पहले चमकी बुखार के मार से बिहार परेशान रहा। कहीं बाढ़ तो कहीं सुखाड़, बलात्कर हो रहे हैं। सृजन घोटला, मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड जैसे तमाम पहलुओं पर सरकार पूर्णतः विफ़ल रही हैं। सिस्टम की विफलता स्पष्ट दिखाई दे रही हैं।

इसी के विरोध में छात्रों ने यह "चेतवानी मार्च" निकाल अपना विरोध दर्ज किया। छात्रों को सम्बोधित करते हुए छात्र नेता माधवेंद्र मुरारी ने कहा की 'सरकार हर मोर्चे विफ़ल रही हैं। अगर इन मुद्दों पर उचित करवाई नहीं होती हैं, तो बिहार में इससे बड़ा आंदोलन होगा। मौके पर सैकड़ों छात्र मौजूद रहें। जिसमें शिवम सम्राट, राजीव, अनिकेत, शशांक, तौसीक, ऋषि, कुन्दन, शिवम, ऋत्विक, आशुतोष, पीयूष, पुष्कर, रोहन सोनी, सत्यम, सूर्यकांत, नमन, आंनद, प्रकाश, राहुल, मनोहर,ज्योतप्रकाश शर्मा, सिंह आदर्श आदि मुख्य थे।

23-Oct-2019 03:02

छात्र_छात्रा मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology