11-Dec-2019 10:04

ग्रामीणों ने खोला किशोरी के साथ हुई हैवानियत का सच

- तीन पूर्व हुई थी किशोरी की निर्मम हत्या, - परिजन दोबारा पोस्टमार्टम के लिए अड़े रहे, - भारी पुलिस बल के साथ करवाया गया अंतिम संस्कार

विवेक मिश्र : तीन दिन पूर्व थरियांव थाना क्षेत्र के खोजवा रसूलपुर गांव में एक 15 वर्षीय किशोरी की निर्मम हत्या कर दी गई थी जिसके बाद उसके पिता को ही हत्या के आरोप में पुलिस पकड़ कर थाने ले गई थी मृतका की मां, जो अपने प्रेमी के साथ 10 वर्षों से दूसरे गांव में रह रही है। ने पिता व उसके परिवार पर ही हत्या की एफआईआर दर्ज कराई थी। सोमवार की शाम को उसका शव पोस्टमार्टम के बाद गांव आया जिसके बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट से असंतुष्ट परिजन उसका अंतिम संस्कार न करने पर अड़े रहे जिस पर मंगलवार की सुबह भारी पुलिस बल आलाधिकारियों के साथ गांव पहुंचा और समझा-बुझाकर अंतिम संस्कार कराने का प्रयास करते रहे। पूरे दिन चली मान मनौव्वल के बाद शाम को उसका अंतिम संस्कार हो सका। जबकि परिजनों का आरोप था कि लड़की के साथ हैवानियत की सारी हदें पार की गई थी फिर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह सब क्यों नहीं आया। इसी से असंतुष्ट परिजन दिन भर दोबारा पोस्टमार्टम की मांग लेकर अड़े रहे, मगर समझा-बुझाकर प्रशासन ने उसका अंतिम संस्कार करवा ही दिया।

जबकि प्रत्यक्षदर्शी राधेश्याम पुत्र भोला की माने तो मौके पर वह मौजूद था जिस वक्त अंदर से दरवाजा नहीं खुल रहा था। सबके कहने पर पिता छत चढ़कर गया था लेकिन वहां पहले से ही छत खुदी पड़ी थी और किशोरी एक धन्नी पर लटकी हुई थी। उसने बताया कि वह बिना कपड़ों के लटकी हुई थी उसके शरीर पर कई गंभीर चोट के निशान भी थे देखने में स्पष्ट प्रतीत हो रहा था कि उसके साथ किसी बड़ी घटना को अंजाम दिया गया है। इसी प्रकार गांव की ही एक महिला ने बताया कि मैंने भी अपनी आंखों से लड़की को उतारते वक्त देखा है उसके अंतः वस्त्र खून से सने चारपाई के बगल में पड़े थे, वह बिना कपड़ों के नीचे उतारी गई थी बाद में उसको एक आध कपड़े परिवार के ही लोगों ने पहना दिए थे। वहीं चारपाई के पास दो शराब की बोतलें भी पड़ीं थी। लोगों के बयान से ऐसा लगता है कि पुलिस ने उन्नाव प्रकरण से घबराकर एक बड़े मामले को दबाने की कोशिश की है जबकि ग्रामीण जिन्होंने घटना के बाद किशोरी को सबसे पहले देखा है उन्होंने किशोरी के साथ हुई हैवानियत के सारे किस्से उसके शरीर पर दिखाई दे रहे थे उसके बारे में खुलकर बताया।

बता दें कि थरियांव थाना क्षेत्र के खोजवा रसूलपुर गाँव में एक किशोरी का फाँसी के फन्दे से लटकता हुआ तीन दिन पूर्व शव मिला था। जबकि पिता घर के बाहर सो रहा था। किशोरी के पिता ने पुलिस को दिये गए बयान में बताया कि दरवाजा अन्दर से बंद था। पुत्री को काफी आवाज लगाने पर कोई प्रतिक्रिया ना मिलने पर कमरे की कच्ची छत पर गया तो वह पहले से खुदी पड़ी थी। जहाँ पुत्री का शव फाँसी के फन्दे से लटक रहा था। वहीं पुत्री की मौत की खबर सुनकर पिछले लगभग दस वर्षों से अपने प्रेमी के साथ हथगांव थाना क्षेत्र के हरदासपुर गाँव मे रह रही मृतका की माँ ने किशोरी के पिता व उसके भाई भतीजों पर संपत्ति के लालच में पारिवारिक जनों के साथ मिलकर पुत्री की सुनियोजित ढंग से हत्याकर हत्या के रुख को मोड़ने के लिए शव फाँसी के फन्दे पर लटकाए जाने का आरोप लगाया हैै।

वहीं मृतका की माँ की तहरीर के आधार पर पिता राम औतार पुत्र विजयी, सर्वेश पुत्र बोधन, संदीप पुत्र बोधन, रमेश पुत्र शिवाकांत के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकद्दमा पंजीकृत कराया गया था। उधर पूरे मामले पर सी ओ सिटी केडी मिश्रा ने बताया कि परिजनों को समझा-बुझाकर अंतिम संस्कार कराया गया है पूरे मामले की विवेचना जारी है पोस्टमार्टम में हैंगिंग से मौत होना निकल कर सामने आया है यह जरूरी नहीं कि उसने आत्महत्या की हो उसकी हत्या भी हो सकती है हालांकि यह विवेचना का विषय है घटना के पीछे जो लोग हैं वह जल्द ही बेनकाब होंगे।

11-Dec-2019 10:04

जुर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology