15-Apr-2018 04:46

झारखंड के छोटे से गांव के 19 साल के बीएससी छात्र को गिरफ्तार

टेक्नोलॉजी में आगे बढ़ने की चाहत में क्रेडिट कार्ड से धोखाधड़ी

इंदौर. जिला साइबर सेल की टीम ने झारखंड के छोटे से गांव के 19 साल के बीएससी छात्र को गिरफ्तार किया। वह पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहा, लेकिन टेक्नोलॉजी में आगे बढ़ने की चाहत में क्रेडिट कार्ड से धोखाधड़ी सीख गया। पिता ने पढ़ाई के लिए लैपटॉप लाने को रुपए दिए तो आईफोन मोबाइल खरीद लाया और गूगल व यू ट्यूब पर नई एप्लीकेशन खोजकर लोगों के क्रेडिट कार्ड का डेटा चुराकर धोखाधड़ी करने लगा। छात्र इंदौर के सब्जी कारोबारी सहित अलग-अलग शहरों के कई लोगों से ठगी कर चुका है। झारखंड का रहने वाला है आरोपी जिला साइबर सेल एसपी जितेंद्र सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी दीपक कुमार पिता राजेंद्र कुमार निवासी जिला पलामू ग्राम पांकी झारखंड है। उन्होंने बताया कि 6 सितंबर 2017 को इंदौर के सब्जी कारोबारी आनंद देवलिया ने शिकायत की थी कि उनके क्रेडिट कार्ड से ई-मेल आईडी हैक कर 50 हजार रुपए (600 यूरो) किसी ने ट्रांजेक्शन कर इंग्लैंड में निकाले हैं। जांच की तो पता चला कुछ समय पूर्व सब्जी कारोबारी देवलिया ने एसबीआई बैंक का एक क्रेडिट कार्ड लिया था। इससे उन्होंने एक सुपर मार्केट में दो ट्रांजेक्शन (200-210 रुपए) के किए थे। जो क्रेडिट कार्ड एक्टिव न होने से फेल हो गए थे। इस पर उन्हें किसी ने इसकी शिकायत ‘इंडियन कंप्लेंट बोर्ड फोरम’ पर करने को कहा। इस पर शिकायत रजिस्टर्ड करवाई तो खुद के नाम पते के साथ अपने क्रेडिट कार्ड का नंबर भी उस पर डाल दिया था। इंडियन कंप्लेंट बोर्ड फोरम से चुरा लेता था डेटा आरोपी ने बताया इंडियन कंप्लेंट बोर्ड फोरम से क्रेडिट कार्ड संबंधी शिकायतें भेजने वालों डेटा आसानी से उठा लेता था। यहीं से आनंद का भी डेटा मिला था। क्रेडिट कार्ड नंबर पता किया, फिर बैंक अधिकारी बन ई-मेल व पासवर्ड लिया और मेल हैक कर लिया। क्रेडिट कार्ड नंबर से ओटीपी प्राप्त कर खाते से 50 हजार निकाल लिए। रुपए अपने इंग्लैंड व सिंगापुर के बैंक के मोबाइल एप के वॉलेट में ट्रांसफर कर बहन के खाते में भेज दिए। पिता डॉक्टर, बहन पोस्ट मास्टर की परीक्षा में अव्वल साइबर सेल की टीम आरोपी दीपक के गांव पहुंची तो उसके माता-पिता को उसकी हरकतों की जानकारी नहीं थी। पिता राजेंद्र ने बताया बेटा शुरू से पढ़ाई में अव्वल रहा है। उसे मार्क जकरबर्ग जैसा बनने की चाहत थी। वह झारखंड के एमके कॉलेज से बीएससी फाइनल ईयर कर रहा था। बहन पोस्ट मास्टर की परीक्षा में अव्वल आई है। पिता गांव में ही बीएचएमएस डॉक्टर हैं। सिर्फ आईएमईआई नंबर से मिल रहे हैं वो।

15-Apr-2018 04:46

जुर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology