07-Jun-2018 11:16

थानाध्यक्षों पर लगाम कसने के बजाय आम आदमी को अपराधी बनाते पुलिस अधीक्षक

वैशाली का दुर्भाग्य है कि पुलिस अधीक्षक थानाध्यक्षों, अपराधियों, हत्यारों को संरक्षण देते हैं और आम आदमी को झूठे मुकदमे एवं आंदोलन को दवाने के लिए प्राथमिकी दर्ज कर रहे हैं।

लगातार अपराधियों की जगह आम आदमी पर ही प्राथमिकी दर्ज करते वैशाली पुलिस प्रशासन की एक और करतूत सामने आई। कि कुछ चंद दिनों पहले ही बिदुपुर थाना के मजलिशपुर गांव स्थित दिनदहाड़े अपराधियो ने गोली मारकर दो व्यक्तियों की हत्या कर आराम से फरार हो गया था। घटना के कारणों का असली पता तो नहींं कर पाई आज तक पुलिस। ज्ञात हो कि गोली की आवाज सुनकर आस पास के लोग घटना स्थल की ओर दौड़ कर पहुंचे। लोगों के पहुंचने के पहले ही दोनोंं युवकोंं की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी थी।वहींं अपराधी केला बगान स्थित पगडंडी रास्ते से आराम से चलते बने थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक युवक मजलिशपुर निवासी टिंकू मल्लिक एवम नान्हक चक निवासी जितेंद्र उर्फ जित्तन राय के रूप में पहचान की गयी थी। मृतक दोनोंं युवको के कनपटी में सटाकर अपराधियोंं ने गोली मारी थी, जिसके कारण दोनोंं युवक घटना स्थल पर ही दम तोड़ दियाथा। दोनोंं युवको के शव लगभग सात  फिट की दूरी पर था। मृतक जित्तन  का शव अपाचे मोटर साईकिल पर ही पड़ा हुआ था। जबकि टिंकू मल्लिक का शव लगभग सात फिट दूर दक्षिण पश्चिम दिशा में पगडंडी रास्ते पर पड़ा हुआ था। घटना की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष रितेश कुमार मण्डल, एस आई गजेंद्र प्रसाद सिंह, ए एस आई प्रदीप कुमार सशस्त्र बलोंं के साथ घटना स्थल पर पहुंच कर शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर सदर अस्पताल भेज दिया। घटना स्थल पर सैकड़ो लोगों की भीड़ जुटी हुई थी। घटना स्थल पर मृतक जित्तन राय के पुत्र सुमित एवम छोटू का रो-रो कर हाल काफी बुरा हो गया था। घटनास्थल से पुलिस को चप्पल एवम कुछ दूरी पर एक बेल्ट और पांच गोली का खाली खोखा बरामद हुई थी। घटना को लेकर आस पास के लोग काफी दहशत में देखे गये।

अल्पसंख्यक  टोला के निकट इस तरह की घटना पहली बार होने से  लोगों में काफी भय व्याप्त हुआ था। घटना स्थल पर खून के अंबार लगे हुए थे। मृतक टिंकू मल्लिक झार फूंक का भी कार्य करता था।उसका छोटा भाई नीरज मल्लिक ने बताया की उसके भाई को स्थानीय अरुण चौधरी उसे घर से बुलाकर ले गया था। वही स्थानीय लोगों के अनुसार दिलावरपुर गोवर्धन पंचायत के नान्हक चक निवासी जितेंद्र उर्फ जित्तन अवैध कारोबार करता था। वह पूर्व में जेल भी जा चुका था। जब पानापुर चौक से नान्हक चक तक जाने वाली पथ का निर्माण कार्य चल रहा था। तो उस समय भी कार्य बाधित कर संवेदक से रंगदारी की मांग किया था,जिसमे उसके विरुद्ध प्राथमिकी भी दर्ज हुआ था। सूत्रों के मुताबिक वह काफी दबंग किस्म का व्यक्ति था। सूत्रों के मुताबिक उसकी हत्या अवैध कारोबार के कारण  या लेन देन के हिसाब में गड़बड़ी को लेकर कर दिया गया होगा। वहींं टिंकू मल्लिक उसके साथ था इस कारण कहींं उसकी हत्या तो नहींं की गयी की वह साक्ष्य हो जायेगा।घटनास्थल से कुछ दूरी पर केला बगान में घास आदि को देखने से प्रतीत होता है कि दोनोंं खेमे में जमकर पटका पटकी और हाथापाई हुई थी। जब जित्तन भागना चाहा होगा तो उसे खदेड़ कर गोली मारकर दोनोंं युवकोंं की हत्या कर दी गयी होगी।

विदित हो कि वैशाली जिला के राघोपुर विधानसभा क्षेत्र के बिदूपुर औऱ राघोपुर क्षेत्रों में अवैध कारोबारियों का सुरक्षित क्षेत्र माना जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग बता रहे है कि यहां प्रशासन की भूमिका निष्क्रिय दिख रही हैं। प्रशासनिक दबिश को लेकर यहां अवैध शराब काअड्डा बना हुआ है। यहीं कारण हो कि शुक्रवार की दोपहर बेखौफ अपराधियो ने नान्हकचक गाँव के जितेंद्र राय उर्फ जित्तन और मजलिशपुर गांव के मिन्टू मल्लिक को मजलिशपुर गांव में ही दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद पुलिस शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर सदर अस्पताल हाजीपुर भेज दि थीं। पोस्टमार्टम से बाद शव को परिजनों को सौंंप दिया गया था। जहाँ शनिवार की सुबह परिजनों ने शव को हाजीपुर महनार मुख्य मार्ग पर रख कर घंटो जाम किया । जिसकी वजह से मुख्य मार्ग पर वाहनों की लंबी कतार लग गई और यात्रियों को भी बड़ी फजीहत झेलनी पड़ी। वहीं प्रदर्शनकारियों ने स्थानीय पुलिस प्रसाशन के खिलाफ जम कर नारेबाजी करने लगे। परिजनों और समर्थकों ने तकरीबन 6 घंटे तक मुख्य मार्ग अवरुद्ध किये रहा। वहीँ ग्रामीणों के आक्रोश को देखकर मीडिया और पुलिसकर्मी भी घटनास्थल पर घंटो नहींं गयी हालांकि बाद में एएसपी अजय कुमार के पहल पर ही जाम हटाई गई। जाम कर रहें प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मृतक के परिजनों के अलावे हजारों की संख्या में मजलिशपुर एवम नान्हकचक गाँव के लोग और जनधिकार पार्टी के पूर्व प्रत्याशी राजा यादव और युवा परिषद के जिलाध्यक्ष पिंटू यादव बीतें दिन बिदुपुर में हुए दोहरे हत्याकांड का विरोध शांतिपूर्ण तरीके से कर रहें थे। लेकिन राजनीतिक साजिश के तहत बिदुपुर थाना प्रभारी रितेश मंडल द्वारा झूठे मुकदमे में राजा यादव और पिंटू यादव को फँसाया गया।जिसके विरोध में आज जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बिदुपुर गाँधी चौक पर बिदुपुर थाना प्रभारी रितेश मंडल का पुतला दहन किया ! अगर झूठा मुकदमा वापस नहींं लिया गया तो आंदोलन को और तेज किया जायेगा ,उसके बाद हमलोग बिदुपुर थाना के प्रभारी रितेश मंडल के खिलाफ पोल - खोल अभियान भी चलाया जाएगा! वैशाली पुलिस के काम करने के तरीकों पर राकेश कुमार के समय से जारी है। थानाध्यक्षों को सेवा के जगह थाने का मालिक के रूप में पदस्थापित करने में राकेश कुमार ने महती भूमिका निभाई थी। लेकिन आम जनमानस का आक्रोश अब और भयावह हो चला हैं। वहीं प्रत्येक हत्याकांड में राजनीतिक बू आनी शुरू हो गई हैं। अब देखना यह भी है कि वैशाली पुलिस सही जाँच कर पायेगी या राजनीतिक दलों के दबाव में किसी आम आदमी को ही मुजरिम बना दें।

07-Jun-2018 11:16

जुर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology