12-Sep-2018 02:46

पुलिस की कार्यशैली पर उठ रही सवाल ,रोड़ जाम का जिम्मवार हैं पुलिस।

पुलिस की कार्यशैली पर उठ रही सवाल ,रोड़ जाम का जिम्मवार हैं पुलिस।

बिदूपुर। बिदूपुर पुलिस लगातार अपराध की जननी होती जा रही है। बिदूपुर पुलिस लगातार अपराधी बनाने के लिए कि काम करती है। बिदूपुर पुलिस आम जनता के हितों में काम बिल्कुल नहीं करती। जिसका प्रमाण इस दुनिया में शायद कोई नहीं दे सकता। लेकिन सत्य ही है कि बिदूपुर पुलिस एक दुकान खोलकर बड़े से बड़े कारोबारी, हत्यारे से रुपया वसूली का काम करती। और मृतक के परिजनों से से भी केस दर्ज करने के लिए रूपया की मांग करती हैं। हद तो तब होती हैं जब पुलिस कोई कार्यवाही नहीं करती हैं।

तब पुलिस की रवैये से पीड़ित परिवार रोड़ पर उतर जाती हैं। परिजन पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हैं। पुलिस उल्टे ही न्याय मांग रहे परिजनों पर मुकदमा दर्ज कर जेल भेज देते हैं। दुर्भाग्य की बात है कि जिस पुलिस के कंधोंं पर हम भरोसा करते हैं, वह हमारी सुरक्षा करेगा, वह पूर्णरुपेन आज निकम्मी हो चुकी है। वह पुलिस जिसे संविधान द्वारा आम आदमी की रक्षा, सुरक्षा एवं समाज में शांति व्याप्त करने के लिए स्थापित की गई थी। खैर हम बात करते हैं अब मुद्दे की। विदित हो कि बिदुपुर थाने के चेचर गांव में 21 अगस्त को एक ब्यक्ति को पीटा गया। उसकी मौत इलाज के क्रम में आइजीआइएमएस में मंगलवार को हो गई।

अस्पताल से शव आने के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने हाजीपुर महनार मार्ग को चेचर बेदाम चौक के समीप बन्द कर दिया और जमकर प्रदर्शन की। मामला जमीनी विवाद को लेकर दरवाजे पर सोये राम प्रवेश साह और उसके भाई किशोरी साह की पिटाई थाने में दर्ज प्राथमिकी मामले के नामजद हमलावरो ने की।राम प्रवेश साह इलाजरत थे जिनकी मौत हो गई।गांव में शव आने पर लोगो का आक्रोश फुट पड़ा और लोग सड़क पर उतर आये। वही परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया की मृतक के पुत्र मुकेश कुमार साह, सुनील कुमार साह, पत्नी विन्देश्वरी देवी आदि ने पुलिस पर आरोप लगाया कि घटना के बाद पुलिस एक बार भी मामले के जाच और आरोपियों के धरपकर के लिये नही आई जबकि अभियुक्त संजय सिंह, काजू सिंह उर्फ़ संजय सिंह बेख़ौफ़ घूम रहे है

और धमकी दिया करते है।यह भी आरोप लगाया गया कि प्राथमिकी के क्रम में केस के आइओ ने करवाई के नाम पर 45 सौ रूपये लिये थे। लेकिन पुलिसिया कार्यवाही नहीं दिखी। भीड़ सड़क जाम समाप्त कराने गई पुलिस पर लोगो का भीड़ टूट पड़ा। महिलाओं ने झाड़ू,डंडे से पुलिस को खदेड़ दिया।भीड़ के आक्रोश को देख पुलिस भाग खड़ी हुई जिसपर उत्तेजित लोगो ने रोरेवाजी की।सड़क मार्ग अभी भी अवरुद्ध है। मुखिया लव सिंह और जिलापरिषद वीरेंद्र कुमार की पहल पर खुला जाम। परिजन पुलिस से सात दिन के अंदर कार्यवाही करने की लिखित ली। तब जाकर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल हाजीपुर भेज दिया।

12-Sep-2018 02:46

जुर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology