24-Apr-2018 09:09

वैशाली पुलिस अधीक्षक के बोल से जिले में दंगा होने की प्रबल संभावना

राकेश कुमार, पुलिस अधीक्षक, वैशाली, लड़की को बरामद नहीं कर पाने की असफलता को लेकर पीड़ित परिवार पर कर रहे शब्द भेदी अचूक शब्दों का प्रयोग, जिसका कोई प्रमाण नहीं होता। राकेश कुमार के हर गतिविधि पर रखे सरकार कैमरों से नजर।

वैशाली पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार के जिला संभालने के समय से लगभग एक दशक में साल से उपर हो गये। पिछले पाँच सालों में यह अपराध का सबसे बड़ा दौड़ चल रहा है। वहीं पुलिस अधीक्षक होने का रौब आप कभी भी देख सकते हैं। आम आदमी के सेवक होते हुए, राकेश कुमार अपने आप को किसी हिंदी फिल्में के खलनायक पुलिस से कम नहीं समझते हैं। कुछ समय पहले आई हिंदी फिल्म "अकीरा" में एक खलनायक पुलिस का रोल हर हिंदी फिल्मों के दर्शक को याद होगा। अपने फर्ज पर कम और अपने खिलाफ उठने वाली सभी हाथों को किसी भी प्रकार से कानूनी दाव पेंच में फंसा ही देते हैं। वर्तमान में बिहार सरकार या केंद्र सरकार को राकेश कुमार पुलिस अधीक्षक वैशाली के कार्य की सही सही समीक्षा करनी चाहिए। संपूर्ण जिले में हत्याकांड, दारू व्यापार, देह व्यापार, जुआरियों का अड्डा, बालू माफियाओं और हथियारों की भारी तस्करी को संरक्षक की भूमिका में नजर आते हैं। जहाँ बेटी बचाव और बेटी पढ़ाओ के नारों में पुरा देश जगा हुआ है, वहीं वैशाली पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार के रहते बेटीयों पर भी हमले कम नहीं हो रहे हैं। वहीं मंगलवार को एक लड़की की हत्या दिन के दोपहर में खुलेआम कर दी गई। लड़की  की सगाई हो चुकी थी और जून में शादी होने वाली थी। लेकिन उससे पहले ही आज कुछ युवकों ने उसकी तब गोली मारकर हत्या कर दी जब वह बाइक से अपने भाई के साथ दवा लेकर घर आ रही थी। वहीं पता चला की पुलिस इसे प्रथमदृष्ट्या मामला प्रेम प्रसंग का लग रहा है बताया। घटना वैशाली जिले के हाजीपुर-लालगंज रोड की है, जहां बाइक सवार युवकों ने 18 वर्षीया छात्रा की गोली मार कर हत्या कर दी। वहीं मिली जानकारी के मुताबिक मृतक छात्रा करताहां थाना क्षेत्र के घटारो गांव निवासी अशोक कुमार सिंह की पुत्री थी। यह घटना स्थल सदर थाना क्षेत्र में हाजीपुर-लालगंज रोड में मनुआ के पास बाइक सवार दो अपराधियों ने उसे नजदीक से गोली मार दी, जिससे उसकी घटनास्थल पर मौत हो गई। वहीं दूसरी ओर कोलकाता की रहने वाली एक हिंदू परिवार की लड़की को वैशाली के पटेढ़ी बेलसर में गुमराह कर ले आता हैं। 7 अप्रैल 2018 को कोलकाता में गुमशुदगी दर्ज की जाती है और दो दिन बाद जब बिहार से लड़की फोन करती है और अपने पिता और भाई से सुरक्षा माँगती है तब पता चलता है कि लड़़की को गुमराह कर शादी की और बिहार वैशाली लेकर भाग आया। परिजनों ने पुलिस एवं अन्य लोगों एवं संस्थानों की मदद से मोहम्मद मुस्तफा और उसके पुत्र मोहम्मद मोसिम के घर जारंग पहुँचे। जिसके बारे में हिंदू संगठन बजरंग दल द्वारा बताया गया कि लव जेहाद की शिकार हिन्दू बहन को मोहमद मोसिम जो गुड्डू बन कर शिकार बनाया था। वहीं होगली कोलकत्ता से बहलाकर वैशाली के जारंग में ला कर छूपा दिया था। लेकिन विहिप, बजरंगदल कोलकत्ता के अधिकारियों से जैसे ही संगठन को सूचना मिली बजरंगदल वैशाली के पूरे टीम जारंग में पहुँच कर मोसिम के अब्बा, अम्मी, खाला, चाचा सब को घर से निकाल कर थाने ले गए। जहाँ वैशाली पुलिस और वैशाली पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार द्वारा लड़की के भाई के साथ ही अभ्रदता की और जेल एवं झूठे मुकदमों में फंसाने की बाते कहीं। वहीं पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने लड़की के लिए बहुत ही घटिया किस्म के शब्दों का भी प्रयोग किया। जिससे लड़की का भाई डर गया और पुलिस अधीक्षक के प्रशासनिक ताकत के आगे चुप रह गया। वहीं वैशाली पुलिस अधीक्षक ने किसी भी संगठनों से मदद ना लेने और भगवा धारियों को इसमें शामिल ना करने की धमकी भी दी। वहीं सोमवार को यह पुरी घटना वैशाली पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में हुआ। वहीं विभिन्न हिंदू संगठनों के सैकड़ो कार्याकर्ताओं के साथ बजरंगदल के कट्टर बजरंगी खड़े रहे। जबकि पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में आम आदमीयों को धमकी और प्रशासनिक ताकत को धौंस दिखाया गया। वहीं जारंग के बारें में पता चला है कि इस गांव के ज्यादातर लोग कोलकत्ता में रहते हैं और हिन्दू से ही निकाह किये हुए हैं मतलब साफ है कि ये बहुत बड़ा साजिश की ओर इशारा करता है। क्षेत्रिय स्तर पर पटेढ़ी बेलसर के थाना प्रभारी ने समाजिक स्तरों पर अपना सराहनीय कार्य करने का प्रयास किया। लेकिन फिर भी यह बहुत बड़ी बात है कि इस रैकेट में ऊपर के लोग मिले हो सकते हैं। इस घटना में वैशाली पुलिस के कार्यकलापों पर शंका की सुई चल रही हैं। वैशाली में पिछले कुछ समयों में अपराध की घटनाओं में अद्वितीय तेजी आई हैं। ऐसा लगता है कि वैशाली पुलिस अधीक्षक अपने कार्यकाल को सुनहरे इतिहास में दर्ज कराने में लगे हो। बेहतर में परेशानियों से गुजरने से बढ़िया, आर्थिक विकास, आम आदमी को अपराधी बनाने से आर्थिक उन्नति और कानून व्यवस्था को कमजोर करने का महत्वपूर्ण लक्ष्य की ओर बढ़ा रहे हैं।

24-Apr-2018 09:09

जुर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology