04-Sep-2019 08:38

ब्रह्म बाबा सेवा एंव शोध संस्थान निरोगधाम अलावलपुर तो संपूर्ण व्याख्याl

400सौ बर्ष पूर्व मारवाड़ (राजस्थान)से चलकर पाटलीपुत्र की धरती पर पुनपुन नदी के तट पर सुरज चन्द्र देव और भावा चन्द्र देव नाम के दो भाईयों ने अपना बसेरा बनाया।दोनो भाई काफी वलशाली थे, उस समय पुनपुन नदी में पटना सिटी का नवाव का हाथी पुनपुन नदी में स्नान के लि

दोनों भाई उस समय वही पर अपना कुल देवता ब्रह्म बाबा का मिट्टी के पिण्डी के रुप में स्थापना किया गया जो अभी ब्रह्म स्थान निरोगधाम अलावलपुर के रुप मशहुर है।यह प्राचीन मंदिर हमारी गांव की सभ्यता और संस्कृति को अपने में संजोये हुए है।कलान्तर में हमारे पूर्वजों ने वहाँ से खेती करने के लिए मंदिर से एक कोस की दूरी पर दरधा, पुनपुन मोरहर के संगम पर अपना गांव अलावलपुर बसाया, जो पटना से13किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित है।प्राचीन समय में इस गांव जलमार्ग से जुड़े रहने के कारण गांव काफी संपन्न रहा, वही नदी जब बाढ़ के बिभिषका का रुप धारण किया तो वरदान के जगह अभिशाप साबित होने लगा।राजधानी से सटे होने के बावजुद भी आवागमन का कोई साधन नही था, वर्षात के समय काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता।ग्रामवासी ने पुनः संकल्प के साथ अपने गांव का विकास का बिड़ा उठाया और अपने गांव में प्राथमिक विद्यालय से लेकर उच्च विधालय ,अस्पताल, डाकघर, विजली, पानीटंकी, पुस्तकालय की वयवस्था कर अपने गांव को आदर्श गांव बना दिया

सड़क मार्ग से नही जुड़ने के कारण अब गांव के लोग शहरो में जाकर बसने लगें गांव लोगों को छूटता गया, खेती करने बाले लोग गांव में रहने लगे और नौकरी पेशा वाले लोग शहर में जा कर बस गये।अलावलपुर गांव की अपनी न्याय व्यवस्था था, कोई भी केस थाना तक नहीं पहुंच पाती, गांव में ही लोग आपस में बैठकर फैसला कर लेते।पुनः एक बार फिर विकास का दौर शुरु हुआ जब हमलोग 2001में अलावलपुर पंचायत के सभी पदो पर विजयी हुए।गांव के गली, नाली बनाते हुए हमलोग सड़क मार्ग से जुड़ गये, और आज इस गांव को केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आकर इस गांव को गोद लिया।यह उत्तर भारत का यह पहला गांव है जो डिजिटल लिटरैसी लैव बना l

कम्पुयटर प्रशिक्षण केन्द्रNiletद्वारा संचालित है।डीजी गांव घोषित किया गया।CSCसेन्टर खोला गया और बाई फाई से लैस आदर्श ग्राम अलावपुर, पटना आज यह गांव देश और दूनिया के नक्शो में आ गया और अपनी माटी छोड़कर जो गांव से शहर चले गए थे वे एक बार फिर अपने गांव आकर बसने लगे। संजय कुमार सिंह पूर्व पंचायत समिति सदस्य अलावपुर पटना। सह संस्थापक सह संयोजक ब्रह्म बाबा सेवा एंव शोध संस्थान निरोगधाम अलावलपुर पटना।

04-Sep-2019 08:38

धर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology