06-Feb-2019 08:11

प्रेरणापिता पं०जयमंगल तिवारी की सातवीं पूण्यतिथि "मंगल प्रेरणा दिवस" के रुप में मनाई गयी

"डिवाईन इंडिया सायंस एण्ड स्प्रिचुअल हैप्पीनेस एसोसिएशन-दिशा" के प्रेरणापिता पं०जयमंगल तिवारी की सातवीं पूण्यतिथि "मंगल प्रेरणा दिवस" के रुप में मनाई

हाजीपुर/हरिहरक्षेत्र//आज दिनांक 6 फरवरी 2019 को प्रत्येक वर्ष कि भाँती इस वर्ष भी "डिवाईन इंडिया सायंस एण्ड स्प्रिचुअल हैप्पीनेस एसोसिएशन-दिशा" के प्रेरणापिता पं०जयमंगल तिवारी की सातवीं पूण्यतिथि "मंगल प्रेरणा दिवस" के रुप में मनाई गयी। यह आयोजन दिशा कि शाखा "अखिल विश्व जाग्रत ब्राह्मण परिषद्" एवं "संपूर्णम्" के द्वारा महाराणा प्रताप काॅलोनी, हाजीपुर में दिशा कार्यालय के ध्यान कक्ष में आयोजित कि गयी। इस अवसर पर सर्वप्रथम दिशा की प्रेरणामाता श्रीमती सावित्री देवी ने दीप प्रज्जवन किया और कहा कि ये दीपक में तो जब तक घी और बाती रहेगी तभी तक जलेगी,लेकिन दिशा के प्रेरणापिता ने जो संस्कार रुपी शिक्षाओं को बताया है, वह जब तक हम चाहें जल सकती है। बस हमें अपने संस्कारों को नहीं भूलना होगा। कार्यक्रम को आगे बढाते हुए सुन्दरकाण्ड पाठ, दरिद्रनारायण में अन्न, वस्त्र वितरण, नि:शुल्क प्राणिक हीलिंग चिकित्सा एवं विश्व कल्याणार्थ जूङवें हृदयों पर ध्यान के साथ पि थ्री मेडिटेशन भी किया गया। इस अवसर पर प्रसिद्ध प्राणिक हीलर श्री उमेश तिवारी ने कहा कि सेवा से बढकर कोई धर्म नहीं यही पं०जयमंगल तिवारी जी सिखलाया करते थे।

प्रकृति एवं आयूर्वेद प्रेमी अभिषेक कुमार सिंह टिंकु एवं रमेश तिवारी ने कहा कि पं० जी हमेशा कहा करते थे कि अपने जीवन से सबसे ज्यादा प्यार करो,नये विचारों को पनपने दो,अंग्रेजी दवाओं से जितना हो सके बचो,खेतों में भी रासायनिक खाद कि जगह जैविक खाद अपनाओं। संस्था के संस्थापक सचिव ने काफी संवेदनशील होकर अश्रुपुरीत नेत्रों से पं०जी के चित्र पर माल्यार्पण करते हुए ,उनके द्वारा बताये मार्ग का अनुसरण करने कि सलाह सबको दिया। श्री बिन्देश्वर राय जी ने पं० जी के सहृदयता का वर्णन करते हुए कहा कि वे हमेशा अपने बच्चों एवं आस-पास के लोगों से नशामुक्त जीवन जीने एवं सत्कर्म में हि लगे रहने का मार्गदर्शन देते थे।

परिवार प्रबंधक श्रीमती सविता तिवारी ने कहा कि पं० जी हमेशा शिक्षा को हासिल करते रहने का सलाह दिया करते थे ,उन्हीं कि कृपा है कि मैं विवाहोपरान्त भी पढाई कर सकी और आज ग्रेजुएट,अर्हाटिक योगी सब हूँ। मास्टर प्रबोध तिवारी ने पं० जी के विज्ञान में रुची के बारे में जानकारी देते हुए रुँधे गले से कहा कि वे हमेशा कहा करते थे कि हर आदमी को विज्ञान एवं प्रकृति के प्रति जागरुकता फैलाते रहनी चाहिए। कार्यक्रम में गायत्री परिवार के वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री हरिनाथ गाँधी की धर्मपत्नी स्व० लक्ष्मी गाँधी कि आत्मा कि शांति के लिए सबने प्रार्थना भी किया।

पूरे कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीमती मंजू उपाध्याय, आकाश जायसचाल, मुन्ना सिंह, दिनेश तिवारी, प्रणव तिवारी, अर्णव तिवारी, पुष्पाञ्जली प्रज्ञा, अन्नपूर्णा भारती, अनुराधा रानी, प्रो०मुकेश तिवारी, रजनीश कुमार, मो०आरिफ, सोनी कुमारी एवं मौसम कुमारी का सराहनीय योगदान रहा।

06-Feb-2019 08:11

धर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology