15-Jun-2018 07:37

44 साल की उम्र में 40 बार रक्तदान

सुपरमैन,स्पाइडर मैन,बैटमैन और न जाने कितने सुपर हीरो की कहानिया तो आपने बहुत देखी और पढ़ी होंगी, लेकिन वो काल्पनिक होती है लेकिन हम जिस हीरो की बात कर रहे है वो तो रियल लाइफ का सुपर हीरो है।एक ऐसा हीरो जो सिस्टम से लड़ता है ऐसा हीरो जो दूसरों की जिंदगी के

उनका नाम है डॉक्टर एम रहमान वेद और कुरान के ज्ञाता जो खुद को न हिंदू मानते हैं ना मुसलमान मानते हैं खुद को एक सच्चा हिंदुस्तानी मानते हैं मरने के बाद भी नहीं चाहते कि उनका शरीर दफनाया जाए या जलाया जाए उन्होंने जीते जी अंगदान कर रखा है कि मरने के बाद उनके शरीर का अंग किसी दूसरे के शरीर में काम करें उम्र 44 साल और 44 साल की उम्र में 40 बार रक्तदान कर चुके है। इतिहास के शिक्षक है पटना में गरीब असहाय छात्रों के लिए एक गुरुकुल चलाते हैं।

जिसका नाम है अदम्या अदिति गुरुकुल इस गुरुकुल में लगभग 15000 छात्र और छात्रा प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करते हैं गरीब छात्रों से महज ₹11 की गुरु दक्षिणा ली जाती है। प्रतिवर्ष हजारों की तादाद में छात्र विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए सफल भी होता है क्लर्क से लेकर कलेक्टर तक इस गुरुकुल में तैयार होते है और साथ ही साथ यह तैयार होते हैं।

देश के सजग नागरिक इस गुरुकुल में पढ़ने आने वाले छात्र छात्राओं का ब्लड ग्रुप लिखा जाता है उसके बाद किसी भी जरूरतमंद को अगर रक्त की जरूरत होती है तो अविलंब उस व्यक्ति तक संबंधित ब्लड ग्रुप का डोनर इस संस्थान के द्वारा दिया जाता है।

छात्रों को नियमित रूप से रक्तदान करने के लिए भी डॉक्टर रहमान प्रोत्साहित करते रहते हैं वह खुद दधीचि देहदान दान अभियान से भी जुड़ें है। रिकॉर्ड 40 बार रक्तदान करने के बाद मन करता है कि रक्तदान करने से शरीर स्वस्थ रहता है रक्तदान करने से नई स्फूर्ति और ताजगी भी आती है।

15-Jun-2018 07:37

धर्म मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology