13-Apr-2018 08:01

महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने में लगी है प्रिया गौतम

मैं लाचारी हूँ हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ

तोड़ के पिंजरा जाने कब उड़ जाऊँगी मैं ,लाख बिछा दो बंदिशे फिर भी आसमान मैं जगह बनाऊंगी मैं हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ ,भले ही रूढ़िवादी जंजीरों से बांधे है दुनिया ने पैर मेरे फिर भी इसे तोड़ जाऊँगी। मैं किसी से कम नहीं सारी दुनिया को दिखाऊंगी जो हालत से हारे ऐसी नहीं, मैं लाचारी हूँ हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ।     दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो की प्रख्यात उदघोषिका प्रिया गौतम ने सामाजिक क्षेत्रा में भी उत्कृष्ट कार्य किए हैं। करीब एक दशक से प्रिया गौतम महिला पर हो रहे अत्याचारों के खिलापफ और महिला सशक्तिकरण के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य करने में लगी हुयी है। प्रिया गौतम अपनी व्यस्त जीवनशैली से समय निकालकर समाजसेवा में भी अपना पूरा योगदान देती हैं।         प्रिया गौतम को  हाल ही में एनजीटाउन का फाउंडेशन डे और सीसीएल 2 के जर्सी लांच पर यंग अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया है। इस समारोह का आयोजन एनजी टाउन के सीएमडी (संजय सिंह और नमिता सिंह ) द्वारा प्रायोजित कॉर्पोरेट क्रिकेट लीग (सी.सी.एल.) सीजन-2 की जर्सी लॉन्चिंग के उपलक्ष्य में किया गया जिसमे यंग अचीवर्स अवार्ड से उन 25 महिलाओं एवं पुरुषों को सम्मानित किया गया जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में राज्य एवं देश का नाम रौशन करने के साथ-साथ समाज के लिए प्रेरणादायी कार्य किया है।         बिहार के जहानाबाद जिले मखदुमपुर थाना के आकोपुर गांव की रहने वाली प्रिया गौतम इंटरमीडियट की पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 2009 में शादी के अटूट बंधन में बंध गयी। उनके पति श्री अनिरूद्ध गौतम जाने माने अधिवक्ता है जो उन्हें हर कदम सर्पोट करते हैं। जहां आम तौर पर युवती की शादी के बाद उसपर कई तरह की बंदिशे लगा दी जाती है लेकिन प्रिया के साथ ऐसा नही हुआ। प्रिया गौतम के पति के साथ ही सास रनियास देवी और ससुर कृष्ण नंदन शर्मा ने उन्हें हर कदम सर्पोट किया। प्रिया गौतम को पढने का काफी शौक था और इसी को देखते हुये उन्होंने बीकॉम किया और उसके बाद मास कॉम भी किया।         कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं। इस बात को साबित कर दिखाया है प्रिया गौतम ने ।प्रिया गौतम ने वर्ष 2009 में ऑल इंडिया रेडियो के लिये ऑडिशन दिया और चुन ली गयी। इसके बाद ऑल इंडिया रेडियो में उदघोषिका के तौर पर काम करने लगी। प्रिया ने ऑल इंडिया रेडियो में ब्राडकास्ट असिस्टेंट के तौर पर भी काम कर अपनी प्रतिभा का हुनर दिखाया। वर्ष 2013 प्रिया गौतम के करियर के लिये अहम वर्ष साबित हुआ। प्रिया गौतम दूरदर्शन से भी जुड़ गयी और बतौर उदघोषिका बिहार के लोक संगीत पर आधारित शो माटी की गूंज में काम करने लगी।इन दिनों  प्रिया ने दूरदर्शन के लोकप्रिय शो क़ृषि दर्शन मे भी बतौर उदघोषिका काम कर रही है।         प्रिया गौतम को समाज सेवा में भी गहरी रूचि थी। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को प्रेरणा मानने वाली प्रिया महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देना चाहती थी और इसी को देखते हुये वह स्वंय सेवी संगठन से जुड़ गयी और महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य एवं शिक्षा पर काम किया। प्रिया ने न सिर्फ इसके लिये पटना बल्कि जहानाबाद , बक्सर और बांका में भी अपना मुहिम छेड़ा।         प्रिया का मानना है अब जरूरत है महिलाओं को सशक्त बनाने की ,अब हर किसी को जगना होगा, और सबको जगाना होगा। बहुत खो लिया नारी ने, अब उसे उसका हक दिलाना होगा स्त्रियों को खुद इसकी शुरुआत करनी होगी स्त्रियों को खुद, स्वयं को आगे बढ़ाना होगा। उम्मीद है जल्द हीं हालात बदलेंगे उम्मीद है अब वक्त करवट लेगा और नहीं रहेगी किसी स्त्री के चेहरे पर शिकन।         प्रिया गौतम प्रधानमंत्री मोदी जी के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और स्वच्छ भारत अभियान से जुड़कर भी काम कर रही हैं। प्रिया का मानना है कि यदि देश की बेटियां सुरक्षित होंगी, तभी वह शिक्षा प्राप्त कर पयेंगी। इसलिए महिलाओं की सुरक्षा के लिए वह सेल्पफ डिपफेंस कार्यक्रम भी चला रही है। प्रिया का कहना है कि आगे भी इनका प्रयास रहेगा कि यह महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों के खिलापफ लड़ाई लड़ें।राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था। उन्होंने स्वच्छ भारत का सपना देखा था। जिसके लिए वह चाहते थे कि भारत के सभी नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें। महात्‍मा गांधी के स्‍वच्‍छ भारत के स्‍वप्‍न को पूरा करने के लिए, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी ने यह अभियान शुरू किया है। इसके सफल कार्यान्वयन हेतु भारत के सभी नागरिकों से इस अभियान से जुडने की जरूरत है। प्रिया गौतम ने  स्वयं सेवी संगठन पब्लिक रिर्सोसेस इनभेसटमेंट यंग ऐशोसियेशन (प्रिया) की शुरूआत की और बतौर सचिव सामाजिक कार्य में लगी हुयी है।         अपने मकसद में कामयाबी हासिल करने के लिए ….ताकत से ज्यादा हिम्मत की ज़रूरत होती है।प्रिया गौतम को हाल ही में बिहार की 101 सशक्त महिलाओं में शामिल किया गया है जिन्होंने अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया है। शेफाली को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी अध्यक्ष एवं केन्द्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने सम्मानित किया है।इसके अलावा प्रिया गौतम ग्रामीण खाद्य योजना समेत कई पुरस्कारो से भी नवाजी जा चुकी है।         प्रिया गौतम के के सपने  सपने यूं ही पूरे नही हुये , यह उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम है।    मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है, हर पहलू ज़िन्दगी का इम्तेहान होता है। डरने वालो को मिलता नहीं कुछ ज़िन्दगी में, लड़ने वालो के कदमो में जहां होता है।प्रिया गौतम को हाल ही में बिहार सरकार के मानव श्रृखंला अभियान से जुड़े एक कार्यक्रम में एंकरिंग करने का अवसर मिला जिसे लोगों ने काफी सराहा। प्रिया गौतम को स्वर कोकिला लता मंगेकर की आवाज बेहद पसंद है और समय मिलने पर वह उनके गाये गीत खासकर लग जा गले को सुनना पसंद करती है। प्रिया पार्श्वगायिका भी बनना चाहती थी लेकिन उनके सपने पूरे नही हुये। जो लोग अपने सपने पूरे नहीं करते ना …..वो दूसरों के सपने पूरे करते हैं।प्रिया चाहती है कि उनकी बेटी उनके अधूरे सपने को पूरा करे।

13-Apr-2018 08:01

भारत_दर्शन मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology