30-Jun-2019 03:06

हमारी मुहिम 'तैयारी अपनों को बचाने की' :    सर्वेश रंजन

एक कदम बदलाव की ओर और अपनों में खुशियों का खजाना ढुढ़ते, हम सब

आज सर्वेश रंजन मुजफ्फरपुर शहर में नाम का मोहताज नहीं हैं। सामाजिक जीवन से लेकर सोशल साइट्स के माध्यम से अपनी अलग पहचान बनाई है। यह पहचान कोई असामाजिक गतिविधियों के लिए स्वयं बना हैं, बल्कि सर्वेश रंजन ने सामाज के उन गरीबों को समझने का प्रयास किया जिनको वाकई जरूरत रही हैं मदद की। सामाजिक कार्यकर्ता बनना एक अलग बात होती हैं पर सामाजिक दायित्व का निर्वहन करने के लिए अपने आप को समर्पित करना दूसरी बात। जिसके लिए मुजफ्फरपुर की गरीब आम आदमी सदा स्नेह और प्यार से सर्वेश रंजन को दुआ देता रहेगा। जिनके कारण अस्पताल साफ सुंदर बना और डॉ को ईलाज करने में मदद मिला। बीमार बच्चों को सफाई से भी फायदें हुए और स्वच्छ वातावरण जीवनदायिनी साबित हुई।

ज्ञात है हम सभी को कि पिछले एक महीने से मुजफ्फरपुर व आस पास के जिलों में बिमारियों से सैंकड़ों बच्चों की मौत हो गई। जहां सरकार की नाकामियों के कारण बच्चों को नहीं बचाया जा सका, वहीं एक साधारण साढ़े छह फीट का नौजवान एक मसीहा बनकर सामने आता हैं। वह नौजवान अपने कुछ साथियों के साथ सरकार की व्यवस्था को दुरूस्त करने के माध्यम से आम गरीब को जीवन देने का प्रयास किया। सर्वविदित हैं कि मुजफ्फरपुर का सरकारी अस्पताल, अस्पताल कम कबाड़ खाना ज्यादा लगता हैं। बिहार बच्चों की बढ़ती तादात से पुरा देश बच्चों की मौत से आहत था। उसी बीच सर्वेश रंजन ने अस्पताल की साफ-सफाई का जिम्मेदारी संभाली और स्वच्छ एवं सुरक्षित अस्पताल बनाया।

सर्वेश रंजन बताते हैं कि - हमारी मुहिम 'तैयारी अपनों को बचाने की' हैं। लागातार कई सप्ताह से आप सबके सहयोग से हमलोग दिन-प्रतिदिन अपनी मुहिम 'तैयारी अपनों को बचाने की' में आगे बढ़ते जा रहें हैं। हमारे द्वारा पिड़ित मासूमों की सहायता का दायरा भी बढ़ता जा रहा है। रोज की तरह आज भी हमनें इमजेंसी और बच्चों के आईसीयू में सफाई की व्यवस्था की और लगभग एक हजार लोगों नें पानी और ग्लूकोज का लाभ लिया। आज हमनें अस्पताल परिसर में बच्चों के लिए सुति कपड़ो के वितरित करने का काम भी किया। जिस तरह आपलोग लगातार हमें सहारा दें रहें हैं उससे हमारा मनोबल बढ़ा है। आज हमलोग लोगों की पीड़ा कम करने का जो भी प्रयास कर रहें हैं वो सब आपके सहयोग का हीं फल हैं। उन तमाम मासूम बच्चों और हमारी ओर से हार्दिक धन्यवाद। हमारी टीम (सत्यमेव जयते दिल से, मुजफ्फरपुर नाऊ, तान्या फाऊंडेशन, जीनियस* *क्लासेस, क्रिएटिव अड्डा आदि) ने रोज की तरह आज फिर आई सी यू और वार्ड के साथ साथ अस्पताल परिसर मे जो गंदगी भरी हुई थी उसकी भी साफ सफाई करवाने का काम किया।

वहीं सर्वेश रंजन बताते हैं कि लेकिन मौजूदा स्थिति को देखकर हमलोगों ने अगले दिन के लिए कुछ योजना बनाई है। जिसका कार्यान्वयन पुरी मुश्तैदी से कर दिया गया है । आपके सहयोग से हम पीड़ित बच्चों के लिए कुछ करने के काबिल हुए हैं। आप सभी से आग्रह है कि इसी प्रकार हमें सहयोग देतें रहें। हमारे इस मुहिम को जन जन तक पहुचाएं। बिहार के मुजफ्फरपुर में आपातकाल जैसी स्थिति बनी हुई है और सूबे के मुखिया 2020 के लिये जातिगत समीकरण बनाने में जुटे हैं.। जिंदगी और मौत के बीच जुझ रहे सैंकडो बच्चों की स्थिति देख पथ्थर की मूरत से भी आँसू निकल आये। वहीं SKMCH अधीक्षक श्रीमान सुनील कुमार शाही जी का आभार व्यक्त करता हूँ कि उन्होने पूरी तरह से मदद किए हमलोगों की टीम को। नौनिहालों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।

30-Jun-2019 03:06

भारत_दर्शन मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology