12-Dec-2019 10:42

महामहिम राज्यपाल फागू चौहान ने किया पूर्वोत्तर भारत के सबसे बड़े सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘ऑक्टेव 2019’ क

‘ऑक्टेव 2019’ के पहले दिन उद्घाटन समारोह के बाद कोरियोग्राफ़ी नृत्य की शानदार प्रस्तुति हुई। इसके बाद पूर्वोत्तर की वेश भूषा पर आधारित फैशन शो का आयोजन किया गया। अंत में उत्तर पूर्वी रॉक बैंड की प्रस्तुति हुई।

पटना, 12 दिसंबर 2019 : राजधानी पटना के बापू सभागार में आज उत्तर पूर्वी भारत के राज्यों की कला और संस्कृ‍ति के तीन दिवसीय कार्यक्रम ‘ऑक्टेव 2019’ का विधिवत शुभारंभ बिहार के राज्यपाल महामहिम श्री फागू चौहान ने किया। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी, पूर्व क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, कोलकाता के निदेशक गौरी बसु, कला संस्कृति एवं युवा विभाग बिहार सरकार के प्रधान सचिव रवि परमार, अपर सचिव दीपक आनंद, पूर्व क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, कोलकाता के डिप्टी डायरेक्टर तापस समन्त्रे, विनोद अनुपम समेत कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

इस दौरान उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए महामहिम राज्यपाल ने इस आयोजन की सराहना की और कहा कि ऐसे आयोजनों से दो राज्यों के बीच का सामाजिक और सांस्कृतिक संबंध प्रगाढ़ होता है। हम पूर्वोत्तर भारत से आये कलाकारों को धन्यवाद देते हैं। वहीं, बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी ने इस आयोजन की सराहना की और कहा कि उत्तर-पूर्व की समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं के प्रदर्शन से देश की विविधताओं से बिहार के लोगों को परिचय का मौका मिलेगा। इस तरह के आयोजन होते रहने चाहिए। बिहार के कलाकार भी अपनी समृद्ध कला – संस्कृति की विरासत को पूर्वोत्तर के राज्यों में प्रस्तुत करें।

मौके पर पूर्व क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, कोलकाता के निदेशक गौरी बसु ने उत्तर-पूर्व की समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं को अभिव्यक्त करनेवाला एक खूबसूरत त्योहार है जिसे 2006 में शुरू किया गया था। ऑक्टेव पूर्वोत्तर को ध्यान में लाता है और देश के अन्य हिस्सों के लोगों के बीच इस क्षेत्र के शानदार और सामंजस्यपूर्ण सौंदर्य के बारे में बेहतर रूप से समझ विकसित करता है । अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम और त्रिपुरा के अष्ट कोणीय गठन की अपनी अलग सांस्कृतिक परंपरा और स्थलाकृति है।

उन्होंने कहा कि हाल में अपने मूल के माध्यम से ऑक्टेव अब देश के सांस्कृतिक कैलेंडर में एक प्रमुख कार्यक्रम बन गया है। जनसांख्यिकी, सांस्कृतिक और भाषायी रूप से नॉर्थ ईस्ट के अस्तित्व वाले संस्कृतियों के सुंदर सम्मेलन का आदर्श उदाहरण है। यह महोत्सव उत्तर-पूर्व शास्त्रीय नृत्य रूपों, दृश्यकला और हस्तशिल्प की लोक जनजातीय परंपराओं को प्रदर्शित करेगा। भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों के रंगीन त्योहार और उत्सव लोगों की आशा, खुशी, सपने और आकांक्षाओं की अभिव्यक्ति है। वहीं, ‘ऑक्टेव 2019’ के पहले दिन उद्घाटन समारोह के बाद कोरियोग्राफ़ी नृत्य की शानदार प्रस्तुति हुई। इसके बाद पूर्वोत्तर की वेश भूषा पर आधारित फैशन शो का आयोजन किया गया। अंत में उत्तर पूर्वी रॉक बैंड की प्रस्तुति हुई।

12-Dec-2019 10:42

राजनीति मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology