CIN : U22300BR2018PTC037551
Reg No.: 847/PTGPO/2015(BIHAR)

94714-39247 / 79037-16860
21-Nov-2019 09:31

कंगारु किड्स ऐजुकेशन के लिए बिहार में हैं वृद्धि की बहुत संभावनाएं

पटना, 21 नवंबर 2019 : कंगारु किड्स ऐजुकेशन लिमिटेड (केकेईएल) -जो कि कंगारु किड्स इंटरनेशनल प्रि-स्कूल और बिलाबाँग हाई इंटरनेशनल स्कूल (बीएचआईएस) की प्रोमोटर है- ने बिहार में अपने प्रिस्कूल व के-12 ब्रांड के नेटवर्क के विस्तार की योजनाओं का खुलासा किया है। केकेईएल अगले 2 वर्षों के दौरान राज्य में 2 बीएचआईएस कैम्पस खोलेगी तथा अपने प्रि-स्कूलों की तदाद को मौजूदा 2 से बढ़ाकर 20 तक पहुंचाएगी। कंपनी अपने नए केन्द्र मुख्यतः चार राज्यों- पटना, मुजफ्फरपुर, गया और भागलपुर में स्थापित करेगी। वर्तमान विस्तार योजना प्रमुख रूप से फ्रेंचाइज़ी माॅडल पर केन्द्रित होगी। हालांकि इनमें कुछ स्कूल कंपनी के स्वामित्व वाले भी होंगे।

फिलहाल कंपनी भारत, मालद्वीप, दोहा एवं दुबई में 100 से ज्यादा प्रिस्कूल और 35 के-12 स्कूलों का परिचालन कर रही है।

इस योजना के बारे में केकेईएल के मार्केटिंग व बिज़नेस डैवलपमेंट के प्रमुख ऋषभ षाह ने कहा, ’’बिहार परम्परागत रूप से एक व्यापार केन्द्र तथा प्रतिष्ठित षिक्षण केन्द्र रहा है। शिक्षा के क्षेत्र में उपलब्धियों के उत्तम रिकाॅर्ड के साथ यह राज्य विश्व के बारे में जागरुक नागरिकों का घर है जो किसी भी अन्य वस्तु के मुकाबले उत्कृष्ट शिक्षा को महत्व देते हैं। हम अपने प्रिस्कूलों के माध्यम से यहां उपस्थित हैं और हमारा विष्वास है कि इस राज्य में हमारे लिए बहुत सी संभावनाएं प्रतीक्षारत हैं। और ये संभावनाएं दोनों ही लिहाज़ से हैं- बच्चों के लिए विष्व स्तरीय शिक्षा हेतु और कारोबारी अवसर के संदर्भ में भी; शिक्षा के क्षेत्र में हमारे वर्तमान व संभावित, दोनों प्रकार के सहयोगियों के लिए सफल व्यापार का मौका है।’’

अपनी षुरुआत से ही केकेईएल का ध्यान सीखने के आधुनिक केन्द्र निर्मित करने पर रहा है जो न केवल शिक्षा के क्षेत्र में विश्व की सर्वोत्तम विधियों को प्रस्तुत करें बल्कि विद्यार्थियों के संपूर्ण विकास की एक पुख्ता नींव भी तैयार करें। बीएचआईएस में आईसीएसई, आईजीसीएसई एवं सीबीएससी बोर्ड का पाठ्यक्रम प्रस्तुत किया जाता है तथा जूनियर केजी से लेकर 12वीं कक्षा तक सर्वोत्तम शिक्षा प्रदान की जाती है।

’’हमारा विश्वास है कि देश को सशक्त करने के लिए उत्तम शिक्षा सबसे शक्तिााली माध्यम है। इस स्वप्न को सच करने के लिए हम पहलुओं पर भारी निवेश कर रहे हैं जिनमें पाठ्यक्रम, शिक्षकों का प्रशिक्षण, टेक्नोलाॅजी तो शामिल हैं ही साथ ही हम सभी संबंधित पक्षों (विद्यार्थी, माता-पिता, शिक्षक व सहभागी) के लिए ज्यादा दिलचस्प वातावरण भी तैयार कर रहे हैं। हमने एक प्रतिष्ठित ब्रांड की स्थापना की है और ज्यादा से ज्यादा लोगांें तक इसका लाभ पहुंचाने के लिए हम निरंतर वृद्धि के अवसर तैयार कर रहे हैं,’’ ऋषभ ने कहा।

21-Nov-2019 09:31

शिक्षा मुख्य खबरें

Copy Right 2019-2024 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology