03-Aug-2019 11:32

बिहार के प्रत्येक प्रखंड मुख्यालय पर शिक्षकों का प्रदर्शन

शिक्षकों ने प्रखंड मुख्यालय में अपनी माँगो का ज्ञापन अपने अपने प्रखंडों में प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ जिला प्रवक्ता नवनीत कुमार ने बताया कि महात्मा गाँधी के देश मे अपना हक माँगने, अन्याय और शोषण के विरुद्ध आवाज उठाने का पुरा अधिकार है । जब हम गुलाम थे उस वक्त भी अन्याय के खिलाफ हम चीखते थे चिल्लाते थे । आज हम आजाद है फिर भी शिक्षकों के जायज माँगो पर सरकार अपने पहलवान पुलिस से निहत्थे शिक्षकों पर लाठी डंडे, गोले चलवाते है। शिक्षकों को झूठे केस में जेल मे डालते है। बस जुर्म इतना है कि अपने पर हो रहे शोषण पर आवाज क्यो उठा रहे हैं ? अपने हक़ को माँग रहे बात करने की जगह शिक्षकों के आवाज को दवाना चाहती है। सरकार दमनकारी नीतियों से हमारे अधिकारों को कुचल रहे है। इंकलाब जिंदाबाद के नारों से हम प्रतिरोध करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार जितना दबाओगे उतना ही मजबूती और एकजुटता से सामना करेंगे। ना डरेंगे, न सहमेंगे समान काम, समान वेतनमान, समान सेवा शर्त ले कर रहेंगे।

शिक्षकों का एकजुटता देख कर बिहार सरकार ने बिहार के सभी जिलाधिकारी, गृह विभाग सचिव, सभी वरीय पुलिस अधीक्षक को निरोधात्मक, सुरक्षामूलक, प्रशासनिक सतर्कता का निर्देश दिया है। सरकार शिक्षकों के आंदोलन से भयभीत है। सभी शिक्षक साथी कई सालों से यह परामर्श देते आ रहे है कि सभी शिक्षक संगठन एक मंच पर आ कर संघर्ष करें। सभी शिक्षक संगठन शिक्षक हित के लिए बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति का गठन करते हुए आज एक मंच पर है। सरकार आपकी एकता से घबराई हुई है। यही जज्बा हर आंदोलन में रखते हुए एकजुटता के साथ जुड़े रहे ।

आपकों बता दें कि आज बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के तत्वाधान में समान काम,समान वेतनमान, समान सेवा शर्त, पेंशन योजना लागू करने एवं अन्य माँगो को लेकर सभी शिक्षक संगठन एकजुटता के साथ वैशाली जिले के सोलहो प्रखंड में धरना व प्रदर्शन किया। जिसमें राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के शिक्षकों ने अग्रणी भूमिका निभाई। शिक्षकों ने आक्रोश जताते हुए राज्य सरकार के खिलाफ जमकर अपनी आवाज बुलंद किया शिक्षको ने कहा कि बिहार सरकार की दमनकारी नीति ,अन्याय,एवं शोषण के विरूद्ध शिक्षक एकजुट है । जिससे बिहार सरकार घबराई हुई है।जायज माँगो के साथ शिक्षकों का चरणवद्ध आंदोलन जारी रहेगा।

शिक्षकों ने प्रखंड मुख्यालय में अपनी माँगो का ज्ञापन अपने अपने प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा। पूरे बिहार में बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के तत्वाधान में लाखों शिक्षकों ने बिहार सरकार के खिलाफ विरोध दर्ज किया। आने वाले समय में यह आंदोलन बहुत ही बड़ा स्वरूप ले सकती हैं।

03-Aug-2019 11:32

शिक्षा मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology