04-Oct-2019 10:29

बिजली और रोशनी की चाहत को धूमिल करते नौकरशाह, ठेकेदारी प्रथा ले डूबेगी बिहार

बिजली की आंख मिचौली और सरकार के दावे वहीं सरकार के वादे भी उनकी राजनीतिक विचारधाराओं जैसी ही हो गई है

आज हम बात कर रहे हैं, बिजली विभाग जो हमारी जिंदगी में रोशनी फैलाने का काम करते हैं। हमारे दिनचर्या में एक मजबूत स्तंभ के रूप में बिजली की आवश्यकता होती है। सरकार चाहे वह भारत की हो या राज्यों की बिजली के भरोसे। वह अपनी राजनीतिक रोशनी फैलाते हैं और जिसका परिणाम ही होता है कि बिजली के सहारे उनकी नैया पार हो जाती है। कमोबेश आज पिछले दो दशकों में बिजली की स्थिति में बहुत ही सुधार हुआ है। जो हमें दिखता भी है वहीं 2012 में जब बिहार सरकार द्वारा बिजली विभाग को एक अलग संस्था सरकार से अलग करते हुए निजीकरण की तरफ बढ़ाया। वैसे ही ठेकेदारों की संख्या बढ़ी और सरकारी परंपरा से हटकर अब ठेकेदारी परंपरा की नीव हैं। आम आदमी का जीवन ठेकेदारों के इर्द-गिर्द ही घूमने लगी। बिजली विभाग कितना सफल है और असफल है यह तो बात की बात होती है। लेकिन सरकार के दावे कितने ठोस एवं मजबूत है। वह बिजली विभाग के अधिकारी पदाधिकारी नौकरशाह एवं कर्मचारियों पर ही टिकी होती। जिसे मजबूत करने में सरकार लंबी लंबी वादे और दावे कर जाते हैं। लेकिन वही नौकरशाह अधिकारी पदाधिकारी कर्मचारी सारे दावों को ऐसे दबाती है जैसे अंग्रेजों ने भारतीयों को दबाया।

वर्तमान स्थिति में मैं यह महसूस कर रहा हूं कि बिजली विभाग की उदासीनता इतनी ज्यादा बढ़ गई है। कि वह अब अपने कर्तव्य को निभाने में और असक्षम न जाती है। एक उदाहरण के रूप में हम अब हाजीपुर पर आते हैं। हाजीपुर के विधायक भी कुछ समय पहले बिजली विभाग की उदासीनता को लेकर धरना एवं प्रदर्शन की धमकी दे चुके हैं । इस बात को लगभग 2 महीने हो गए। लेकिन उन्होंने मात्र 1 महीने का ही बिजली विभाग को वक्त दिया था। क्योंकि हाजीपुर के विधायक सिर्फ सत्ता भोगी दल के विधायक ही नहीं है, बल्कि वह केंद्र की मजबूत मोदी सरकार के केंद्रीय राज्य मंत्री के खासम खास है। और पूर्व विधायक ने हाजीपुर के रहे हैं। लोग आशा करते हैं कि जो विधायक बोल रहे हैं वह केंद्रीय राज्यमंत्री भी बोल रहे हैं । क्योंकि उनकी भाषा केंद्रीय राज्यमंत्री से एक शब्द इधर-उधर नहीं हो सकता। उसके बहुत सारे कारण है मैं उस कारण पर आज नहीं जाऊंगा। खैर विधायक जी की औकात हाजीपुर की जनता को समझ में आ गई। लेकिन बिजली विभाग ने विधायक जी की औकात भी दिखा दी। लेकिन ऐसी कौन सी परिस्थिति आन पड़ी है कि एक विधायक अपने क्षेत्र में होने वाले विकास के कार्यों की समीक्षा करने की भी क्षमता नहीं रखता है। एक विधायक अपने क्षेत्र में काम नहीं होने के जिम्मेवार लोगों पर जिम्मेवारी तय करने में भी सक्षम है। एक विधायक अपने क्षेत्र में हो रही लापरवाही ओं के लिए किसी को लापरवाह गहने और उससे काम लेने में सक्षम है। तो बड़ा अजीब लगता है। खैर आज बिजली विभाग एक ऐसी स्थिति में आकर खड़ा है। जहां वह अपनी मनमर्जी चलाता है और आम आदमी को तो बहुत सारी बातों की जानकारी भी नहीं है। किस राजनीतिक खेल में संवैधानिक आड़ में कौन-कौन से रंग लगाकर आम आदमी तक सुविधाएं नहीं पहुंचाई जाती है।

वहीं पिछले कुछ समय से जिस तरीके से बिजली विभाग की लापरवाही हाजीपुर क्षेत्र में चल रहा है। उसका एक छोटा सा उदाहरण देते हुए बता रहा हूं कि गुजरी रोड में लगातार बिजली की स्थिति बद से बदतर है। कुछ समय पहले वैशाली जिले के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर से मिलकर बिजली की स्थिति में सुधार करने की बात कही। जिसको लेकर एसडीओ हाजीपुर को निर्देशित किया गया, कि इस क्षेत्र की बिजली में जो भी समस्याएं उसको दूर की जाए। वह समस्या को लेकर एसडीओ ने जेईई को आगे बढ़ा दिया और वही जेईई ने बिजली मिस्त्री जो उस क्षेत्र में ठेकेदारी पर काम करते हैं। उन्हें सौंप दिया, वहीं एक दिन फोन आता है, उसके बाद सैंकड़ों फोन करने के बावजूद एजुकेटिव इंजीनियर से लेकर जेईई तक जिम्मेवारी उठाने के लिए तैयार नहीं है। वहीं जेईई ने कहा कि हम कितने दिन बिजली देते हैं उसकी सूचना सूचना के अधिकार से मांग ले । आपको हम दे देंगे लेकिन अपनी कमी मानने के लिए वह तैयार ना हुए। वहीं जब मंगलवार को अचानक एग्जीक्यूटिव इंजीनियर को फोन किया गया और उन्होंने फोन उठा लिया। तो बार-बार फोन और मिलकर झूठे आश्वासनों को लेकर जब कहा गया तो अभिमान में आकर एसडीओ हाजीपुर को आदेशित किया। कि जल्द से जल्द ठीक किया जाए। क्योंकि मेरे लिए भी बहुत बड़ी समस्या होती जा रही है। यह शिकायत क्योंकि पिछले 1 महीने से शिकायत का दौर चल ही रहा था। लेकिन एसडीओ सक्रिय नहीं हुए और उन्होंने एक ठेकेदार मिस्त्री को भेज दिया और मिस्त्री ने पोल पोल पर चढ़कर नीलकमल के सामने के कुछ लोगों के तार काट दिए और कुछ के जोड़े। जोड़ें भी उसके बाद एसडीओ हाजीपुर द्वारा कहा गया कि सभी के लाइन ठीक हो गए हैं और अब शिकायत की गुंजाइश नहीं है। लेकिन जब लाइन दी गई तो कुछ घरों में यहां लाइन नहीं थी। तो हमने फिर फोन कर बताया तो उन्होंने रात हो जाने की बात कह कर टाल दिया और जब दूसरे दिन बात की गई। तो उन्होंने कहा जल्दी ही बन जाएगा। लेकिन दोपहर तक जब कोई खबर नहीं मिली। तब जाकर बिजली विभाग के सचिव, सीएमडी, एमडी, सहित 15 लोगों को इस संबंध में शिकायत Email के माध्यम से किया गया, तब जाकर एसडीओ हाजीपुर शाम 5:00 बजे पहुंचे।

अब आप यह मजेदार चीजें देख सकते हैं कि शाम 5 से लेकर 7:00 बजे तक उन्हें पता ही नहीं था कि गड़बड़ी क्या हुई। जब कुछ लोगों ने तार की तरफ ध्यान दिया, तब पता चला एक लाइन का फ्यूज का तार काटकर इनके मिस्त्री तार फेक दिए और फिर दोबारा तार खरीद कर एसडीओ को दिया गया। तब जाकर रात 9:00 बजे तक तार जोड़ा गया। और फिर लाइट चालू कीजिए। अब यहां से आगे समझने का प्रयास करें, कि हमने जो शिकायत की थी की गुजरी रोड में बिजली की स्थिति खराब है। उसमें सुधार, जबकि बिजली विभाग के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, एसडीओ, जेईई एवं उनके मिस्त्री के द्वारा घर के तार ही काट लिए गए और एक नई समस्या पैदा कर दी गई। उसे ठीक करने में बिहार के प्रमुख पदों पर बैठे हुए ब्यूरोक्रेट्स को मेल करना पड़ा। तब जाकर नए पैदा किए गए समस्या का समाधान किया गया । जबकि बिजली की शिकायत जो कि बहुत ही कम स्थिति में रहती है उस पर कोई भी सुनवाई अभी तक नहीं हूं। इतनी सारी बात कहने का यही मुख्य उद्देश्य है कि जब तक आम आदमी जो कि पैसा देकर सुविधा के लिए सरकार को सहयोग करता है। उसके साथ सरकार व्यापार कर रही है और व्यापार करने का भी एक बहुत अच्छा तरीका यह है। कि छोटे-छोटे वस्त्रों पर ठेकेदार बहाल कर दिए गए हैं और वह ठेकेदार आम आदमी को परेशान करते हैं । और कानून का डर दिखाकर उन्हें यानी आम आदमी को हमेशा नीचे एवं डर के साए में जीवन यापन जीने के लिए मजबूर करते हैं। और कहते हैं कि आप कानूनी रूप से काम नहीं कर रहे हैं, लेकिन क्या वह बिजली विभाग कानूनी रूप से , वैध रूप से, संवैधानिक रूप से क्या अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रही है। क्या सरकार और सरकार की सारी मशीनरी इस बात की गारंटी लेने के लिए तैयार है कि वह सत्य एवं सही तरीके से आम आदमी के साथ पेश आ रहा है। और उनकी सुरक्षा एवं उनके प्रति उत्तरदायित्व सत्य एवं सही है।

04-Oct-2019 10:29

समस्या मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology