28-Apr-2018 10:42

जीवनदाई पुलिस अधीक्षक की तलाश में वैशाली

लंबे समय बाद वैशाली में आ रहे हैं कर्मठ पुलिस अधीक्षक

ना जाने किसकी नजर लग गई थी, कि वैशाली में कानून व्यवस्था एक दम ध्वस्त हो चुकी थी। बहुत लंबे समय बाद वैशाली को एक जीवनदायिनी पुलिस अधीक्षक के रूप में मानवजीत सिंह ढिल्लो मिले हैंं। अब वैशाली को एक नई ऊर्जा मिलेगी, एक नया स्वरूप मिलेगा यहीं उम्मीद मकर रहे वैशालीवासी। अब शायद यह उम्मीद रख सकते है कि अपराध, डर, हत्या, बलात्कार, पुलिस के शोषण एवं झूठे मुकदमों से आम आदमी को निष्पक्ष रुप से मिलेगी मुक्ति। सहयोगयुक्त, भयमुक्त, समाज बनाने में मानवजीत सिंह ढिल्लो सफल होंगे, यही उम्मीद में वैशाली की जनता।

वैशाली सिर्फ लोकतंत्र की धरती नहीं, यह एक जीता जागता विश्व पटल का एक ऐतिहासिक जीवन, जीवंत मानवीय, कर्मठ एवं सुदृढ़ मानवता का स्वरुप है। भारत के लोकतांत्रिक राष्ट्र में वैशाली की एक बहुत बड़ी भूमिका है लेकिन भारत सरकार एवं राज्यों की सरकारों द्वारा इसे उपेक्षा की दृष्टि से देखा जाता रहा है। लेकिन शायद इस बार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी आंखें वैशाली की तरफ भी खोली हैं।बहुत लंबे समय बाद पुलिस पर भरोसा करने की इच्छा आम जनमानस को होगी। आम आदमी को जीने का मन करेगा। जीवंत उद्देश्यों के साथ काम करने की इच्छा होगी। यह इच्छा होगी कि हम एक ऐसे व्यक्तित्व के साथ वैशाली मे रह रहे हैं जिसे अपने कर्तव्य का निर्वाहन करने में सुकून महसूस होता है।

सूत्रों की माने तो मानवजीत सिंह ढिल्लो रोहतास में रहते हुए अपने काम करने के तरीकों से आम आदमी का दिल जीता है। वहींं पूर्व में मानवजीत सिंह ढिल्लो पटना सिटी एस पी रहे हैं, आर्थिक अपराध नियंत्रण शाखा में एस पी रहे हैं। वहीं रोहतास में एसपी पद पर आने के साथ ही अपराधियों के खिलाफ अपना मुहिम तेज कर काफी लंबे समय से अवैध पत्थर खनन के साथ, उग्रवाद, अपराध पर नियंत्रण की चुनौतियों को बखूबी निभाया है। वही रोहतास में अवैध पत्थर माफियाओं के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए मानवजीत सिंह ढिल्लों ने भारी मात्रा में विस्फोटक के साथ आपूर्तिकर्ता को भी गिरफ्तार किया था। वही मानवजीत सिंह ढिल्लो पुलिस अधीक्षक होते हुए रोहतास से कुछ ही समय में शराबबंदी को पूर्णरूपेण लागू कराने में सफलता पाई। जिसमें उन्होंने महिला पुलिसकर्मियों का साथ लिया और अवैध तरीके से चल रहे सभी प्रकार के शराब बिक्री को बंद कराया। जहरीली शराब एवं अन्य तरीकों से संचालित हो रहे शराब माफियाओं को दबोचने का काम किया। उन्होंने आम जनमानस को साथ लेकर सहयोगात्मक रवैया के तहत काम किया। उन्होंने रोहतास को अपना एक सुंदर जीवन काल और कर्म भूमि बनाया।

अब जब वैशाली जिले की बागडोर 2009 बैच के आईपीएस ऑफिसर मानवजीत जीत सिंह ढिल्लो को मिला है। तो एक नई उम्मीद की किरण वैशाली को दिख रही है। मानवजीत सिंह ढिल्लो पंजाब के अमृतसर के रहने वाले हैं और 2009 में आईपीएस बनने के बाद उन्हें जम्मू और कश्मीर कैडर के लिए चयनित किया गया था। बिहार कैडर के आईपीएस ऑफिसर हरप्रीत कौर के साथ विवाह के उपरांत उन्हें विशेष अनुशंसा पर भारत सरकार द्वारा बिहार कैडर दिया गया। इस क्रम को बढ़ाते हुए आज उन्हें लोकतंत्र की धरती वैशाली पर काम करने का एक सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ है और वैशाली की जनता बहुत लंबे समय बाद एक सशक्त व्यक्तित्व को देख रहा है। वैशाली की जनता यही चाहती है कि मानवजीत सिंह ढिल्लो मानवता के उस चरण को प्राप्त करें, जिससे वैशाली में लोकतंत्र की पुनः स्थापना हो सके। आम आदमी निष्पक्ष वैशाली में जीने का अवसर प्राप्त कर सकें।

28-Apr-2018 10:42

समाचार मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology