28-Jan-2020 10:50

कल्पना कुमारी ने समस्त बिहार वासियों को गौरवान्वित किया

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद जी को प्रेसिडेंसी कॉलेज में 100 में 100 अंक सही उत्तर लिखने पर एक अंक काट लिया था, क्योंकि पूर्णांक कैसे दिया जा सकता था!

बिहार के अत्यंत छोटे एवं आर्थिक रूप से सर्वाधिक पिछड़े जिले शिवहर के तरियानी प्रखंड की बेटी कल्पना कुमारी ने समस्त बिहार वासियों को गौरवान्वित किया। उन्होंने #NEETResults2018 में पूरे देश में सर्वोच्च स्थान लाकर अपने माता-पिता ममता कुमारी जी एवं राकेश मिश्रा जी के साथ हम सबों को बहुत बड़ी खुशी दी है। कल्पना को कल्पनातीत सफलता की बहुत-बहुत बधाई! गांव से निकल नवोदय विद्यालय में पढ़ी बिहार की इस सुपुत्री ने 99.99% अंक हासिल कर सबको चमत्कृत कर दिया है।

कल्पना सच में तुम कल्पना से परे हो। कभी हम सब कहानियों में सुनते हैं कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद जी को प्रेसिडेंसी कॉलेज में 100 में 100 अंक सही उत्तर लिखने पर एक अंक काट लिया था, क्योंकि पूर्णांक कैसे दिया जा सकता था!

इस पर राजेन्द्र बाबू खूब रोये थे, उनकी उत्तर पुस्तिका पर लिखा गया था कि 'The examinee is better than examiner.' अर्थात, परीक्षार्थी परीक्षक से बेहतर है। आज बेटियां विशेषकर बिहार की बेटियां राजेन्द्र बाबू की सफलता के आसपास कदमताल कर रही हैं। यह अत्यंत गर्व की बात है। राजेन्द्र बाबू भी होते तो वह भी इन सफलताओं पर गर्वानुभूति करते!

कल्पना ऐसी कल्पना से ऊपर उड़ान भरो, बिहार की करोड़ों बेटियां आपसे प्रेरणा लेकर आगे बढ़ेंगी। कामयाबी उन सबकी कदम चूमेगी। हरियाणा गर्व करता है कि उसके पास भी करनाल की बेटी कल्पना चावला हैं। जो अंतरिक्ष में छाप छोड़ सदा के लिए विदा हो गयी। लेकिन पूरी दुनिया उनको सदा सर्वदा सलाम करता है। आज बिहार की कल्पना ने भी एक बड़ी शुरुआत की है। डॉक्टर बन, वह मानवता की सेवा में अवश्य बड़ी लकीर खिंचेगी।

28-Jan-2020 10:50

सम्मान मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology