15-Aug-2019 11:22

भारतीय संस्कृति और संस्कारों की मजबूती सामाजिक समरसता से ही संभव : संजीव सिंह

संजीव सिंह ने भारतीय सद्भावना संघ के उद्देश्य को बताते हुए कहा कि यह भारत के सामाजिक व्यवस्था को मजबूत करने के लिए हम प्रयारत हैं

सामाजिक न्याय और सामाजिक दायित्व दोनों को मजबूत करने से ही भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था को दुरूस्त किया जा सकता हैं। भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था को दुरूस्त करने का एक सशक्त माध्यम स्वयं से सामाजिक व्यवस्था को अपनाना। भारतीय राजनीति का जिस तरीके से सामाजिक जीवन में प्रवेश हो रहा है वह समाज और लोकतंत्र के लिए शुभ नहीं है। इसी कड़ी को मजबूती प्रदान करने के लिए मधुवन मोतिहारी के रहने वाले संजीव सिंह ने "भारतीय_सद्भावना_संघ" की स्थापना कर, समाज को एक नया दिशा देने का प्रयास किया। संजीव सिंह ने भारतीय_सद्भावना_संघ के उद्देश्य को बताते हुए कहा कि यह भारत के सामाजिक व्यवस्था को मजबूत करने के लिए हम प्रयारत हैं।समाज में व्याप्त कुरीतियों, अन्याय, अत्याचार, अशिक्षा, अन्धविश्वास जैसी बुराइयों से लड़ते हुए एक साफ़ सुथरे समाज के निर्माण का स्वपन सार्थक करने के प्रयास में लगा हुआ हैं … इसी लक्ष्य को लेकर राष्ट्र निर्माण की दिशा में युवाओं को सक्रिय योगदान हेतु प्रेरित करने तथा समाज के प्रति उनके दायित्वों का बोध कराने के काम में *भारतीय सद्भावना संघ* के माध्यम से, मैं और मेरे साथी प्रयासरत हैं। हम भारत देश को अपराध रहित, शिक्षित, मजबूत अर्थ व्यवस्था, भरपूर चिकित्सा सुविधाएँ और एक विकसित देश के रूप में देखना चाहते हैं. हम गरीबी, अपराध, अन्याय, अशिक्षा, चिकित्सा सुविधाओं की कमी, असामाजिकता के खिलाफ जन सहयोग के द्वारा से लड़ना चाहते हैं हम बाल मजदूरी, विधवाओं, बुजुर्गों को उनका हक दिलाने के लिए लड़ना चाहते हैं हमारा उद्देश्य कमजोर व बेसहारा लोगों की समस्याओं को किसी भी तरह से हल करके उनकी मदद करना है!

*BSS का उद्देश्य* *भारतीय_सद्भावना_संघ* *हमारा संदेश – हमारा मकसद राष्टीय स्तर पर एक ऐसा संगठन खड़ा करना है जो समाज में व्याप्त सामाजिक बुराइयों से, भरष्टाचार और अन्याय के खिलाफ बिना किसी दबाब में आये, न्याय की लड़ाई लड़ सके। और बगैर ये देखे की कि अन्याय का वजूद ( ताक़त ) क्या है अपना कार्य कर सके। * यदि आप हमारे मकसद से सहमत हैं समाज के लिए कुछ करने का जज्बा, जोश अपने अंदर रखते हैं तो हमारे साथ जुडकर हमे और अपने आप को और अधिक मजबूत बनाये। संगठन के उद्देश्य: * राष्ट्रीय एकता एवं भाईचारे को मजबूती प्रदान करना। * साक्षरता को बढ़ावा देना। * गरिबों अपाहिजों एवं विपत्ति में फंसे लोगों को सहायता पहुंचाना। * समाज में स्थापित कुरीतियों एवं बुराइयों को दूर करना। छुआछूत को दूर करना। * समाज में बढ़ रहे जातीय एवं साम्प्रदायिक संघर्षों को दूर करना।

संगठन के कार्यों को संचालित करने हेतु विभिन्न प्रान्तों, जिलों, तहसीलों एवं गांवों में आवश्कतानुसार संगठन के शाखा कार्यालयों को स्थापित करके संचालित करना तथा कार्यालयों में एवं देश स्तर पर प्रचार-प्रसार हेतु सदस्यता अभियान चलाना । संगठन के जनकल्याणकारी कार्यों को देश स्तर पर संचालित करने हेतु प्रान्तीय, जिलास्तरीय, तहसील स्तरीय एवं ब्लॉक तथा ग्रामस्तरीय संगठन के शाखा पदाधिकारियों की नियुक्ति करना। अपने जनकल्याणकारी कार्यों हेतु प्रशासनिक आर्थिक सहयोग, सब्सिडी एवं सांसद या विधायक निधि से सहयोग प्राप्त करना और आवश्यकतानुसार बैंकों या प्राइवेट वित्तीय संस्थाओं से ऋण प्राप्त करके कार्यों को संचालित करना। शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु कोचिंग सेण्टर एवं विद्यालयों का निर्माण कराकर संचालित करना। एवं गरीब या मुहताज बच्चों हेतु शिक्षा की व्यवस्था कराना या आर्थिक मदद देना व बच्चों को शिक्षा क्षेत्र में पुरस्कृत करना। जनकल्याणकारी सांस्कृतिक, आध्यात्मिक, ऐतिहासिक आदि जनकारियों से जुड़े साहित्य एवं राष्ट्रीय चेतना, नशा, भ्रष्टाचार एवं अपराध मुक्ति हेतु प्रचार सामग्री का प्रकाशन करके जन-जन तक पहुँचाना। नशामुक्त समाज के निर्माण हेतु देश स्तर पर अभियान चलाना। आवश्यकतानुसार जगह-जगह पर जनजागरण कार्यक्रमों एवं जनजागरण सद्भावना यात्रा आदि का आयोजन करना। पर्यावरण के रक्षार्थ वृक्षारोपण आदि करना एवं समाज को इस दिशा में कार्य करने हेतु प्रेरित करना। साथ ही जल संरक्षण, भूमि संरक्षण तथा वायु एवं ध्वनि प्रदूषण के क्षेत्र में भी सतत कार्य करना। समाज को पूर्ण स्वस्थ बनाने के लिए स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन करना । शारीरिक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने एवं शारीरिक रूप से समाज को सामर्थ्यवान् बनाने के उद्देश्य से खेल-कूद कार्यक्रमों को आयोजित करना और खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने हेतु पुरस्कृत करना तथा खेल मैदानों का निर्माण कराकर सभी खेल सुविधायें एवं सामग्री उपलब्ध कराना तथा इस क्षेत्र में उचित आर्थिक सहयोग प्रदान करना। जनकल्याणकारी कार्यों को गति देने हेतु धन अर्जित करने के लिये आवश्यकतानुसार ऐसे व्यावसायिक कार्य करना, जिनसे धन अर्जित हो सके तथा बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध हो सके।

धर्मशाला, प्याऊ, शौचालय, भवनों आदि जनकल्याणकारी निर्माणों पर जोड़ देना। खास रूप से आज भारतीय सद्भावना संघ के संस्थापक सह राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव कुमार सिंह जी के द्वारा सभी संस्थापक सदस्यों से विचार विमर्श करने के बाद किया जा रहा है। जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव कुमार सिंह, राष्ट्रीय सचिव शक्ति शरण सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रवी रंजन यादव, राष्ट्रीय महासचिव स्वतंत्र मिश्रा , राष्ट्रीय संगठन विस्तारक अर्जुन सिंह, राष्ट्रीय संयोजक धर्मेन्द्र गढ़वाल, राष्ट्रीय प्रवक्ता सत्येंद्र राम, राष्ट्रीय कार्य समिति सदस्य रोहित चौरसिया, के विचार विमर्श के उपरान्त राजा कुमार कुशवाहा को मधुबन प्रखंड संयोजक बनाया जा रहा है ।

15-Aug-2019 11:22

सामाजिक_संस्थान मुख्य खबरें

समाचार भारत_दर्शन राजनीति खेल जुर्म शिक्षा चिकित्सा धर्म परम्परा व्यक्तित्व कला सम्मान फिल्म सामाजिक_संस्थान रोजगार कानून अर्थव्यवस्था समस्या पर्यावरण सैनिक पुलिस गांव शहर ज्योतिष सामान्य_प्रशासन जन_संपर्क छात्र_छात्रा
Copy Right 2020-2025 Ahaan News Pvt. Ltd. || Presented By : CodeLover Technology