मीडिया आज भी लोकतंत्र का सबसे मजबूत स्तम्भ ---आर के पाण्डेय ।





फर्जी पत्रकारों पर विधिक कार्यवाही आवश्यक। रिपोर्टर्स को सुविधा व प्रशिक्षण दें मीडिया घराने। प्रयागराज, 05 दिसम्बर 2020। भारतीय लोकतंत्र के 73 वर्षों के इतिहास में आज भी मीडिया चौथा सबसे मजबूत स्तम्भ है परंतु फर्जी पत्रकारिता पर रोक लगाने के साथ ही मीडिया घरानों द्वारा अपने रिपोर्टर्स को सुविधाएं व प्रशिक्षण देने की आवश्यकता है।



उपरोक्त बातें करते हुए भारतीय ग्रामीण पत्रकार एशोसिएशन उ0प्र0 के महासचिव व एनडी न्यूज के लीगल एडवाइजर व प्रयागराज मण्डल ब्यूरो आर के पाण्डेय एडवोकेट ने कहा है कि यह दुखद है कि कुछ मीडिया घराने बिना चेहरा देखे व बिना साक्षात्कार के मात्र कुछ धन के चक्कर में किसी का भी रिपोर्टिंग आई कार्ड बनाकर आईडी भेज दे रहे हैं जिसका दुष्परिणाम यह है कि गली-2 ऐसे तमाम संवाददाताओं की बाढ़ आ गई है जोकि एक शब्द लिखना व पढ़ना तक नही जानते लेकिन ऐसे लोग व इनके आईडी पर कुछ दूसरे लोग अनावश्यक रूप से लोगों पर धन उगाही तक का दबाव बनाते हैं व रौब जमाते हैं ।






आर के पाण्डेय ने यह भी कहा कि स्वयं उनके संज्ञान में यह आया है कि ऐसे लोग स्वयं पत्रकार, संवाददाता व फोटोग्राफर तक की परिभाषा नही जानते व समाचार हेतु आवश्यक उचित हेडिंग, कर्सर, इंट्रो व कंटेंट तक का ज्ञान नही रखते परन्तु प्रायः पुलिस चौकी, थानों, विद्यालयों व अन्य प्रतिष्ठानों के चक्कर लगाते हुए व वहां दलाली हेतु बैठकी करके स्वयं के साथ मीडिया की भी गरिमा तार-तार करते हैं। आर के पाण्डेय ने समाज व विभागों को सुझाव दिया है कि जब भी कोई फोटोग्राफर व रिपोर्टर स्वयं को पत्रकार कहकर आप पर दबाव बनाये ।






अभिलेख देखने को मांगे व धौंस जमाये तो तत्काल उसके आई कार्ड व अधिकार पत्र देखने के साथ अपने क्षेत्र के थानाध्यक्ष व जिला सूचना अधिकारी को सूचित करके उसकी जानकारी प्राप्त करें तथा पत्रकार न होने व अवैध धन की मांग की स्थित में उसके विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराकर विधिक कार्यवाही सुनिश्चित करें। आर के पाण्डेय ने उत्तर प्रदेश के विभिन्न मीडिया घरानों के सभी पंजीकृत पत्रकारों व संवाददाताओं को भारतीय ग्रामीण पत्रकार एशोसिएशन से जुड़कर व समय-2 पर आवश्यक प्रशिक्षण प्राप्त करके स्वयं के साथ मीडिया को और अधिक मजबूत बनाने पर बल दिया है ।