घंटों के मशक्कत के बाद समर्थकों सहित किसान नेता सुदामाजी नजरबंद , किसानों व किसान नेताओं की गिरफ्तारी अलोकतांत्रिक :-चन्द्रमणि पाण्डेय |




देश का भरण पोषण करने वाले अन्नदाता को स्वामीनाथन आयोग के रिपोर्ट के सापेक्ष कृषि उत्पाद का समर्थन मूल्य देने व किसान विरोधी बिल क़ वापस लेने हेतु किसानों व सरकार के मध्य जारी गतिरोध के चलते आज भारतबंद के समर्थन में हर्रैया बंद को सफल बनाने हेतु लखनऊ से देर शाम घर पहुंचे किसान नेता चन्द्रमणि पाण्डेय सुदामाजी को हर्रैया कूच करते हुए दर्जनों ,




समर्थकों के साथ कई घंटों के छानबीन के बाद हर्रैया पुलिस ने किया उनके घर पर नजरबंद ग्यात हो कि श्री पाण्डेय को घर से बाहर न निकलने देने के शासन के फरमान के क्रम में आज प्रातःकाल पुलिस श्री पाण्डेय के घर पहुंची तो वो घर से निकल चुके थे व फोन बंद था |



ऐसे में पुलिस ने उनका लोकेशन ट्रेस कर घंटों की छानवीन के बाद उन्हे उनके स्कूल से दर्जनों समर्थको के साथ हर्रैया कूच करते वक्त रास्ते में रोक उनके घर पर नजरबंद कर दिया सरकार के इस कदम को श्री पाण्डेय ने अलोकतांत्रिक व दमनकारी करार दिया उन्होंने कहा कि यदि किसान बिल किसान हित में है तो सरकार शान्ति पूर्ण प्रदर्शन पर रोक क्यों लगा रही है |






लोगों को उनके घरों गली चौराहों पर क्यों रोका जा रहा है क्या हमारे संविधान में शान्ति पूर्ण धरना प्रदर्शन की व्यवस्था नहीं है क्या यदि आपका किसान बिल किसान हित में है तो आपको किसानों के सडकों पर उतरने का डर क्यों सता रहा है किसान आन्दोलन का विरोध करने वालों पर सवाल खडा करते हुए श्री पाण्डेय ने कहा कि शायद ऐसे लोग अपना गन्ना गेंहूँ आलू आनलाइन बेंच कर दुगना फायदा उठा रहे हैं आथवा वो आनाज नहीं खाते श्री पाण्डेय ने कहा कि प्रशासन कब तक प्रतिबंध लगायेगा |






आज नहीं तो कल हम बस्ती आगमन पर मुख्यमंत्री का घेराव करेंगें जरूरत पडा तो लखनऊ दिल्ली कूच करेंगें प्रशासन कब तक पुलिस के दम पर आन्दोलन को रोकेगी इस मौके पर श्री पाण्डेय के साथ ओमप्रकाश तिवारी, चन्द्रप्रकाश तिवारी, अजय तिवारी, सुनील तिवारी, पप्पू चौधरी, राजेश चौधरी,बृजेश चौधरी,विवेक पाण्डेय, अतुल पाण्डेय, राकेश पाण्डेय, सुदीप सिंह,रंजीत सिंह, रणजीत यादव,दिलीप यादव,दिनेश प्रजापति सहित दो दर्जन से अधिक समर्थक मौजूद रहे ।

संपर्क

संपर्क करें